बागपत नाव हादसे जैसा हापुड़ में भी खेला जा रहा है मौत का खेल, प्रशासन की नही टूट रही नींद

हापुड़ – उत्तर प्रदेश के जनपद बागपत में हुए यमुना नदी में नाव हादसे में हुई मौत और आगजनी के बाद भी हापुड़ का प्रशासन आँखे बंद किये बैठा है।  हापुड़ की ब्रजघाट गंगा में बिना सुविधा के ही करीब 200 नावों को चलाया जा रहा है दरसल बागपत में नाव हादसे में कई बेगुनाह लोगों की जान चली गई ना जाने कितने घरों में कोहराम मच गया और कितने अभी लापता है लेकिन अब आपको जनपद हापुड़ के बारे में बताते है। गढ़मुक्तेश्वर कोतवाली क्षेत्र तीर्थ लगती गंगा ब्रजघाट पर हजारों लाखों श्रद्धालु स्नान करने आते है और गंगा पर नाव से भी श्रद्धालु आनंद लेते है। लेकिन उन श्रद्धालु को ये नही पता कि जरा सी अनहोनी उनकी जान भी ले सकती है क्योकि नाव चालक का कहना है कि गंगा पर कोई हादसा नही होता है तो इसलिए नाव में कोई बचाव की सुविधा नही रखते है और उनका कहना है कि अगर ऐसा कुछ होता है तो हम तैर कर बचा लेते है अब बड़ा सवाल यह हैं कि ये कैसा प्रशासन है जो जागने को तैयार नही है और कौन से हादसे का इंतज़ार कर रहा है। हैरानी की बात तो यह है कि सुरक्षा के इंतजाम नहीं होने पर भी अधिकारियो ने उनको नाव गंगा में चलाने की परमिशन दे दी या फिर ये कहें कि उनको लोगों की जान के साथ खिलवाड़ करने की परमिशन। 
 

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com