बेटियां किसी के लिए बोझ नहीं

अंबेड़करनगर से शाही अब्बास की रिपोर्ट

सेवाहि धर्म: सामाजिक संस्था के तत्वाधान में अंबेडकरनगर में गरीब परिवारों की छह बच्चियों का सामूहिक विवाह कराया गया। संस्था के सेवादार धर्मवीर सिंह बग्गा ने इन बेटियों का पिता बनकर उनका कन्यादान किया। बग्गा ने कहा कि बेटियों को बोझ समझने वाले और उन्हें गर्भ में ही मार देने वालों के लिए ये एक सीख है कि बेटियां किसी के लिए बोझ नहीं है, बल्कि बेटियों से समाज और संसार चलता है। इस मौके पर बग्गा ने सभी बेटियों को स्वच्छता अभियान की शपथ दिलाई और एक-एक आम का पौधा देकर वृक्षारोपण के लिए भी प्रेरित किया। वैवाहिक कार्यक्रम वैदिक मंत्रोच्चार के बीच सम्पन्न हुआ। शादी समारोह में लजीज दावत के भी प्रबंध किए गए थे। नवविवाहिताओं को विदाई में साइकिल, सिलाई मशीन, बेड, बिस्तर और दैनिक जीवन में प्रयोग होने वाले बर्तनों के साथ कई घरेलू सामान उपहार स्वरूप दिए गए। सबने वर-वधुओं को आशीर्वाद देकर उनके सुखमय जीवन की कामना की। बग्गा पिछले 15 सालों से गरीब और बेसहारा बेटियों की शादी अपने खर्चे पर करा रहे हैं। अब तक वे 500 से अधिक बेटियों की शादी करा चुके हैं। 
 

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com