योगी सरकार के मंत्रियों की हुई फजीहत!

ब्यूरो रिपोर्ट समाचार टूडे

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार के कुछ मंत्रियों की उस समय फजीहत हो गई जब उन्होंने रविवार को गुरु नानक जयंती की ट्विटर पर शुभकामनाएं दे डालीं। सोशल मीडिया में ट्रोल होने के बाद उन्हें अहसास हुआ कि उन्होंने तो यह बधाई सात महीने पहले ही दे दी है। दरअसल, गुरु नानक जयंती इस बार 23 नवंबर को है। उत्तर प्रदेश सरकार के आधिकारिक छुट्टियों में भी इसका जिक्र है। लेकिन योगी सरकार के मंत्रियों को शायद ये नहीं मालूम था…और उन्होंने सात महीने पहले गुरु नानक जयंती की बधाई दे दी। उप मुख्यमंत्री सीएम केशव प्रसाद मौर्या, स्वास्थ्य मंत्री और प्रदेश सरकार के प्रवक्ता सिद्धार्थनाथ सिंह, चिकित्सा शिक्षा मंत्री आशुतोष टंडन और विधि मंत्री ब्रजेश पाठक सहित कई मंत्रियों और बड़े बीजेपी नेताओं ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट्स से गुरु पर्व की बधाई दी थी। बाद में जब उन्हें अपनी चूक के बारे में पता चला तो उन्होंने अपने-अपने अकाउंट से यह बधाई संदेश डिलीट किया। मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने तो बधाई संदेश हटाने के साथ ही ट्विटर पर माफी भी मांगी। उन्होंने लिखा कि विकिपीडिया के चलते उन्हें भ्रम हुआ। उन्होंने इस बधाई संदेश के साथ ही विकिपीडिया के पेज का स्क्रीनशॉट डाला, जिसमें उन्होंने दर्शायी गई गलत तारीख को हाइलाइट भी किया। उन्होंने लिखा, 'गुरु नानक जी के जन्मदिन पर किए गए ट्वीट के लिए वह हर किसी से माफी मांगते हैं।' इस संबंध में केशव प्रसाद मौर्या और आशुतोष टंडन से संपर्क किया गया तो उन्होंने कोई भी टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। 
 

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com