शराब को हाथ ना लगाने का फैसला !

बरेली से सुशील पाल की रिपोर्ट

उत्तर प्रदेश सरकार नई आबकारी नीति से आम आदमी  तक शराब को पहुंचाने पर तुली हुई है। लेकिने जनपद बरेली के नट समाज ने शराब को हाथ भी ना लगाने का फैसला  कर लिया है। शेरगढ़ कस्बे से सिर्फ एक किलोमीटर दूर मानपुर पूर्वी गांव में नट बिरादरी रहती है। इस बिरादरी में मर्दों के साथ महिलाएं भी कांधे से कांधा मिलाकर काम करती हैं। महिलाएं अपनी आमदनी से जहां घर चलाती हैं, तो पुरुष शराब पीकर टल्ली रहते हैं। वह आए दिन मारपीट भी करते हैं। पुरुषों की इसी लत से परेशान आखिर एक दिन महिलाओं ने शराब के खिलाफ मोर्चा खोल दिया, जिसमें बुजुर्गों ने भी उनका साथ दिया। इस दौरान एक बैठक बुलाई गई और इसमें महिलाओं और बजुर्गों के साथ ही नौजवानों को भी शामिल किया गया। बैठक में सभी ने सामूहिक रूप से फैसला लिया कि अब से कोई भी शराब नहीं पीयेगा। साथ ही यह भी कहा गया कि नियम तोड़ने वाले पर पांच सौ रुपये जुर्माना लगाया जाएगा। इस दौरान महिलाओं ने शराब के खिलाफ रैली भी निकाली। आपको बता दे कि नट बिरादरी में कुल देवता को शराब अर्पित करने की परंपरा है। वही बैठक के दौरान सामूहिक रूप से फैसला हुआ कि अब कोल्ड ड्रिंक चढ़ाई जाएगी.।

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com