चॉकलेटी नहीं था चेहरा फिर भी हमेशा याद किए जाएंगे ओम पुरी

चेहरे पर चेचक के दाग औसत कद-काठी और रंग-रूप। पहली नजर में कोई देखे तो सोच भी नहीं सकता कि ऐसा कोई शख्श चिकने-चुपड़े चॉकलेटी चेहरों की चमकीली फिल्मी दुनिया में अपनी प्रतिभा के दम पर यादगार पहचान बना सकता है। हिन्दी फिल्मों में सार्थक और पापुलर दोनों तरह की फिल्मों में अपने अपने अभिनय का लोहा मनवाया। 18 अक्टूबर 1950 को अंबाला में जन्मे ओम पुरी ने राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय (एनएसडी) और राष्ट्रीय फिल्म संस्थान (एफटीआईआई) से अभिनय का प्रशिक्षण लिया था। फिल्मी करियर की शुरुआत उन्होंने 1972 में जब्बार पटेल द्वारा निर्देशित मराठी फिल्म घासीराम कोतवाल से की। उन्होंने अर्ध सत्य के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का राष्ट्रीय पुरस्कार दिया गया था। पुरी को भारत के चौथे सबसे बड़े नागरिक सम्मान पद्म श्री से भी सम्मानित किया गया था। हिंदी, अंग्रेज़ी और उर्दू फ़िल्मों में बेहतरीन अदाकारी से मशहूर हुए अभिनेता ओम पुरी अब इस दुनिया में नहीं रहे। शुक्रवार सवेरे ओम पुरी का उनके घर पर दिल का दौरा पड़ने से निधन हुआ. वो 66 साल के थे। ओम पुरी मौत के बारे में क्या कह गए थे, ये जानकर आप हैरान रह जाएंगे। उनकी बातें सुनकर आपको लगेगा कि उन्हें अपनी मौत का अंदाज़ा पहले से हो गया था। हाल ही में एक पत्रकार ने उनसे ये पूछा था कि क्या उन्हें मौत से डर लगता है, तो उनका जवाब, लाजवाब कर गया। ओम पुरी ने कहा था, ''नहीं, मृत्यु का भय नहीं होता. बीमारी का भय होता है. जब हम देखते हैं कि लोग लाचार हो जाते हैं बीमारी की वजह से और दूसरों पर निर्भर हो जाते हैं. उससे डर लगता है. मृत्यु से डर नहीं लगता.''। मार्च 2015 में लिए गए इस इंटरव्यू में उन्होंने कहा था, ''मृत्यु का तो आपको पता भी नहीं चलेगा. सोए-सोए चल देंगे. (मेरे निधन के बारे में) आपको पता चलेगा कि ओम पुरी का कल निधन हो गया.'' और ये कहकर वो हंस दिए। और असल में हुआ भी ऐसा ही. शुक्रवार सवेरे जब उनके निधन की ख़बर आई, तो सभी हैरान रह गए. ओम पुरी ने आक्रोश, अर्ध सत्य, गुप्त, जाने भी दो यारों, चाची 420, मालामाल वीकली में यादगार अभिनय किया था. वो फ़िल्म 'घायल रिटर्न' में आखिरी बार बड़े पर्दे पर दिखाई दिए थे। ओम पुरी ने आक्रोश, अर्ध सत्य, गुप्त, जाने भी दो यारों, चाची 420, मालामाल वीकली में यादगार अभिनय किया था. वो फ़िल्म 'घायल रिटर्न' में आखिरी बार बड़े पर्दे पर दिखाई दिए थे।

ओम पुरी के इन 6 बयानों पर हुआ था हंगामा omp     

ओमपुरी के साथ जीवन के आख़िरी वक्त में कई विवाद भी जुड़े. इन विवादों के कारण वह कई बार असहज भी हुए। ऐसे ही चर्चित 6 बयान –

  • एक टीवी बहस में ओम पुरी ने सरहद पर भारतीय जवानों के मारे जाने पर कहा था, ''उन्हें आर्मी में भर्ती होने के लिए किसने कहा था? उन्हें किसने कहा था कि हथियार उठाओ?'' इस बयान के बाद ओमपुरी के ख़िलाफ़ केस दर्ज किया गया था। बाद में इस मामले में उन्होंने माफी मांगते हुए कहा था, ''मैंने जो कहा उसके लिए काफी शर्मिंदा हूं। मैं इसके लिए सजा का भागीदार हूं। मुझे माफ नहीं किया जाना चाहिए। मैं उड़ी हमले में मारे गए भारतीय सैनिकों के परिवारों से माफी मांगता हूं.'।'
  • रामलीला मैदान में अन्ना हजारे के मंच से ओमपुरी ने नेताओं पर तीखा हमला बोला था। उन्होंने हज़ारों लोगों की भीड़ के सामने कहा था, ''जब आईएस और आईपीएस ऑफिसर गंवार नेताओं को सलाम करते हैं तो मुझे शर्म आती है। ये अनपढ़ हैं, इनका क्या बैकग्राउंड है? आधे से ज़्यादा सांसद गंवार हैं.''। इस बयान के बाद जब विवाद बढ़ा तो ओमपुरी ने माफी मांग ली। उन्होंने कहा, ''मैं संसद और संविधान की इज्जत करता हूं. मुझे भारतीय होने पर गर्व है.''।
  • आमिर ख़ान ने कथित रूप से भारत में बढ़ती असहिष्णुता पर कहा था कि उनकी पत्नी ने एक दिन देश छोड़ने का जिक्र किया था। इस पर ओमपुरी ने कहा था, ''वह हैरान हैं कि आमिर ख़ान और उनकी पत्नी इस तरह से सोचते हैं। असहिष्णुता पर आमिर ख़ान का बयान बर्दाश्त करने लायक नहीं है। आमिर ने बिल्कुल ग़ैरजिम्मेदाराना बयान दिया है। आप अपने समुदाय के लोगों को उकसा रहे हैं कि भैया, या तो तैयार हो जाओ, लड़ो या मुल्क छोड़कर जाओ.'।'
  • भारत में गोहत्या पर प्रतिबंध लगाने को लेकर उठे विवाद के बीच ओमपुरी ने कहा था, ''जिस देश में बीफ़ का निर्यात कर डॉलर कमाया जा रहा है। वहां गोहत्या प्रतिबंधित करने की बात एक पाखंडपूर्ण है.'।'
  • ओमपुरी ने कहा था कि नक्सली फाइटर हैं न कि आतंकवादी। उन्होंने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा था, ''ये आतंकवादी नहीं हैं क्योंकि ये ग़ैरजिम्मेदाराना काम नहीं करते हैं। नक्सली अपने हक़ों के लिए लड़ रहे हैं। ये आम आदमी को परेशान नहीं करते हैं.'।'
  • ओमपुरी का मोदी पर बयान भी काफी चर्चित हुआ था। उन्होंने कहा था, ''अभी देखिए हमारे पास कोई च्वाइस नहीं है, सिवाय मोदीजी की गोदी में बैठने के बाकी गोदियां हमने देख ली हैं.''।

सलमान खान स्टारर बॉलीवुड की मोस्ट अवेटेड फिल्म ‘ट्यूबलाइट’ में भी ओम पुरी नजर आने वाले हैं। कुछ दिनों पहले तक उन्होंने इस फिल्म की शूटिंग की है। आपको बता दें कि सलमान खान की फिल्म ‘बजरंगी भाईजान’ में भी ओम पुरी नजर आ चुके हैं। इसके अलावा सलमान खान और ओमपुरी ने ‘दबंग’, ‘लंदन ड्रीम्स’, ‘वांटेड’, ‘बाबुल’, ‘क्योंकि’ और ‘दुल्हन हम ले जाएंगे’ सहित कई फिल्मों में साथ काम किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com