एक ही घर में 11 शव: हत्या या आत्महत्या, क्या पोस्टमॉर्टम से खुलेगा राज?

दिल्ली के बुराड़ी इलाके में एक ही घर में 11 लोगों की मौत कैसे हुई। इन मौतों के पीछे क्या है राज?। ये हत्या है या आत्महत्या?। एक ओर जहां दिल्ली पुलिस ने मृतक परिजनों-रिश्तेदारों के दवाब में शाम को एफआइआर दर्ज कर ली वहीं, मृतकों के घर से मिले नोट्स तंत्र-मंत्र की तरफ कर इशारा कर रहे हैं। अब जांच में जुटी क्राइम ब्रांच का कहना है कि तंत्र-मंत्र के एंगल की भी जांच होगी। पड़ोसियों के मुताबिक भी यह परिवार काफी धार्मिक विचारों वाला था और रात की कीर्तन करने के बाद ही सोता था। इतना ही नहीं, यह भी पता चला है कि दुकान पर हर दिन बोर्ड पर घर की बहू सुविचार लिखती थीं। ऐसे में मामले की जांच कर रही क्राइम ब्रांच ने ऐसा दावा किया है कि उन्हें घर से कुछ नोट्स मिले हैं जो इस तरफ इशारा कर रहे हैं कि उनकी मौत तंत्र-मंत्र के चक्कर में हुई है। यह भी पता चला है कि परिवार के सदस्य मोक्ष की चाहत रखते थे और उनके घरों में इसके लिए अजब गजब अनुष्ठान भी किए जाते थे।

हसते-खेलते पूरे परिवार के इस तरह से खत्म होने पर हर कोई हैरान है. पड़ोसियों को यकीन नहीं हो रहा, पड़ोसी ने कभी परिवार को लड़ते झगड़ते नहीं देखा. कभी घर से शोर-शराबे की आवाजें नहीं आई. कभी परिवार को लोगों को बदतमीजी करते नहीं देखा. आस-पड़ोस से कोई दुश्मनी नहीं थी. किसी से कोई दुश्मनी की खबर भी नहीं सुनी.

पुलिस की मानें तो भाटिया परिवार के घर से मिले सबूत इस बात की ओर इशारा कर रहे हैं कि मृतकों का अध्यात्म की ओर ज्यादा झुकाव था। यही नहीं परिवार तांत्रिक विद्या पर भी विश्वास करता था, इसलिए माना जा रहा है कि मोक्ष की प्राप्ति के लिए अंधविश्वास में सभी ने स्वेच्छा से मौत को गले लगा लिया। पुलिस अधिकारी भी इस घटना को अध्यात्म से जोड़कर देख रहे हैं इस बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और दिल्ली बीजेपी के प्रमुख मनोज तिवारी ने घटनास्थल का दौरा किया. पुलिस ने बताया कि वे सभी दृष्टिकोण से मामले की जांच कर रहे हैं. उन्होंने घटना में गड़बड़ी की संभावना से इंकार नहीं किया. पुलिस ने शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है.

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com