मध्य प्रदेश में छात्रावास में रहने वाले 9 साल के बच्चे की मौत…

मध्य प्रदेश के आदिवासी अंचल झाबुआ जिले के राणापुर ब्लॉक के मांडली नाथू ग्राम में संचालित एक छात्रावास में रहने वाले 9 साल के बच्चे की मौत हो गई। मृत बालक के परिजनों ने छात्रावास के संचालकों की लापरवाही से बालक की मौत का आरोप लगाया है। घटना के बाद मृत बालक के परिजनों ने संस्था में जमकर हंगामा किया और कार्रवाई की मांग की। बताया जा रहा है कि ग्राम मांडली नाथू स्थित ग्राम स्वराज संस्था के आवासीय छात्रावास में रहने वाले कक्षा तीन के छात्र नगीन राठौड़ को शुक्रवार की रात उल्टी और दस्त की शिकायत हुई। इसके बाद उसे इलाज के लिए झाबुआ जिला अस्पताल ले जाया गया, जहां से उसे दाहोद रेफर कर दिया गया। लेकिन उसकी जान नही बचाई जा सकी। इस पूरे मामले में मृत बच्चे के परिजनों ने छात्रावास प्रबंधन पर गम्भीर लगाए हैं। परिजनों का आरोप है कि छात्रावास के संचालकों ने उन्हें बच्चे के बीमार होने की जानकारी देर दी। यही नहीं, परिजनों ने आरोप लगाया कि बच्चे को इलाज के लिए ले जाने से पहले उससे गंदगी साफ करवाई गई। परिजनों ने साफ-साफ आरोप लगाया कि गंदगी और दूषित पानी की वजह से उनके बच्चे की मौत हुई। बच्चे की मौत से नाराज परिजनों ने संस्था पर कार्रवाई की मांग को लेकर वहां जमकर हंगामा किया। हालांकि संस्था के जिम्मेदार परिजनों के आरोपों और संस्था में गंदगी व अव्यवस्था से इंनकार कर रहे है।  जबकि बच्चे की मौत के बाद राणापुर ब्लाक के बीइओ ने मौके पर पहुंचकर घटना की जानकारी ली और जांच के बाद संस्था के खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई का दावा किया।   

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com