5 बेटियां होने के बाद भी नही हुआ बेटा तो की बेटियों को मारने की कोशिश, रुला देगी मां की ये दर्द भरी दास्तां…

यमुनानगर – कन्यादान के लिए उठने वाले हाथ भी कई बार अपनी ही कन्या की जान के दुश्मन बन जाते हैं। एक पिता की घृणा अपनी ही बेटियों से इतनी बढ़ सकती है कि वह उनकी जिंदगी के लिए ही खतरा बन जाये। ऐसा ही एक मामला यमुना नगर के पृथ्वी नगर में, प्रकाश में आया है। । महिला को उसका पति उसे अपने घर में इस लिए नही रहने दे रहा क्योंकि उसने 5 बेटियो को जन्म दिया है।  बेटे की चाह रखने वाले इस पिता को अपनी बेटिया इतनी नाखुशगवार लग रही है कि इसने अपनी ही मासूम बेटियों को जहर देकर मारने की कोशिशि की परन्तू  बच्चियों की किस्मत अच्छी थी कि समय रहते ही इसका पता चल गया और इनकी जान बच गई।  फ़िलहाल पुलिस ने पत्नी की शिकायत पर मामला दर्ज़ कर जांच शूरू कर दी है । 


दरअसल, यमुनानगर के दामला में रहने वाली पूजा का विवाह 2005 में पृथ्वी नगर में  रहने वाले अनिल से हुआ था। कुछ महीनो तक तो सब ठीक चला पर जब  पूजा ने पहली बेटी को जन्म दिया तब से ही उस पर दुःखो का पहाड़ टूट पड़ा।  उसके पति ने उसके साथ मार पिटाई शुरू कर दी और उस पर  उसके पति ने अत्याचार शुरू कर दिए। उसके बाद पूजा ने  एक के बाद एक पांच लड़कियों को जन्म दिया । जब जब पूजा के पास लड़की पैदा हुई तब तब ही उसके पति के अत्याचार उस पर बढ़ते गए।  2014 में पूजा के पास पांचवी लड़की हुई तो उसके पति ने उसे बच्चियों के साथ घर से निकाल दिया । उसके बाद वो अपने मायके में जाकर रहने लग गई।  इस मामले में कई बार पंचायत भी हुई।  कोर्ट में भी केस चला । कोर्ट के कहने पर ही पूजा की घर वापसी हुई । लेकिन वापिस आने पर फिर से पूजा और उसकी बच्चियों के साथ अनिल का अत्याचार शूरू हो गया ।  हद तो तब हो गई जब अनिल ने इन मासूम बच्चियों को चूरन देने के बहाने से इनको सल्फास की गोलिया खाने के लिए दे दी ।  गनीमत यह रही कि पूजा ने समय रहते देख लिया और इन मासूमो की जिंदगी बच गई ।


पूजा ने बातया है कि घर का खर्चा चलाने  के लिए उसका पति कोई भी आर्थिक मदद नही करता है जिससे घर में खाने तक के लाले पड़े है।  ऐसे में  वह अपनी बेटियो का पालन पोषण कैसे करेगी।  पूजा ने बतया कि इसकी सास भी उसके पति का ही साथ देती है । पूजा ने यह भी बताया कि अनिल ने 2 बेटियो को जलाने की भी कोशिश की। उसका कहना है कि सिर्फ बेटियां होने की उसे इतनी बड़ी सज़ा मिल रही है। 


सरकार चाहे बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के  लाख दावे कर ले परन्तू अभी भी बेटो की चाह रखने वाले ऐसे समाज में बेटियो के साथ ऐसा व्यव्हार कही न कही सवालिया निशान जरूर खड़े करता है
 

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com