इलाहाबाद हाई कोर्ट की एकल पीठ में मुन्ना बजरंगी की हत्या की CBI जांच की मांग खारिज

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी की ओर से सुरक्षा को लेकर 16 मई को दाखिल याचिका खारिज कर दी गई है। हाई कोर्ट की एकल पीठ ने मुन्ना बजरंगी की अधिवक्ता स्वाती आग्रवाल की तरफ़ से मुन्ना बजरंगी की हत्या की  सीबीआई जांच की मांग की याचिका भी तकनीकी आधार पर ठुकरा दी है। कोर्ट ने केस को डिवीजन बेंच में ट्रांसफर करने की मांग को भी ठुकरा दिया। हालांकि कोर्ट ने मुन्ना बजरंगी के अधिकवक्ता को नए सिरे से परिजनों को डिवीजन बेंच में याचिका दाखिल करने की छूट दे दी।

आपको बता दें कि माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी ने 16 मई को सुरक्षा की मांग करते हुए इलाहाबाद हाई कोर्ट में एक याचिका दाखिल की थी। इस पर कोर्ट ने सुनवाई के लिए 9 जुलाई की तारीख मुकर्रर की थी। लेकिन 9 जुलाई की सुबह ही मुन्ना बजरंगी की बागपत जेल में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इसके बाद उनकी अधिवक्ता स्वाति अग्रवाल ने 9 जुलाई कोर्ट में सुनवाई के दौरान हत्या की सीबीआई जांच की मांग के साथ पीड़ित परिवार के लिए मुआवजे की मांग की थी।

कोर्ट ने इस पर सुनवाई के लिए 11 जुलाई की तारीख तय की थी। सुनवाई के दौरान जस्टिस एसडी सिंह की एकलपीठ ने सीबीआई जांच की मांग को खारिज कर दिया। वहीं, मुन्ना बजरंगी की वकील स्वाति अग्रवाल ने दावा किया कि मुन्ना बजरगी की पत्नी और भाई की तरफ से सोमवार तक एक नई अर्जी कोर्ट में दाखिल हो जाएगी।

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com