बिहार की टॉपर कल्पना कुमारी फिर विवादों में ,शिक्षा मंत्री ने दिया बयान

बिहार बोर्ड इंटर टॉपर पर फिर विवाद शुरू हो गया है। इस बार मेडिकल प्रवेश परीक्षा  NEET 2018 की टॉपर रहीं कल्पना कुमारी ने बिहार इंटर साइंस संकाय में भी टॉप किया है। लेकिन नतीजों के ऐलान के बाद आरोप लगा कि स्कूल में हाजिरी कम होने के बावजूद कल्पना को कैसे टॉपर घोषित किया गया। बिहार के शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन वर्मा ने इन सभी आरोपों को खारिज कर दिया है। उन्होंने कहा कि इस पर कोई विवाद नहीं होना चाहिए।

दरअसल कल्पना के रिजल्ट पर विवाद की वजह उनकी स्कूल में हाजिरी है। नीट टॉप करने के बाद कल्पना ने कई इंटरव्यू में बताया था कि वह पिछले 2 साल से लगातार दिल्ली के एक मेडिकल एंट्रेंस कोचिंग संस्थान में नीट तैयारी कर रही थीं। इसी अवधि में कल्पना ने अपने गृह जिला शिवहर के तरियानी में स्थित वाईकेजेएम कॉलेज में दाखिला भी लिया हुआ था। 

दरअसल, डॉ राजीव रंजन ने अपने स्कूल के छात्र अभिनव आदर्श के पक्ष में यह सवाल खड़ा किया, जो साइंस का दूसरा टॉपर है। उनकी दलील थी कि अभिनव ही असली टॉपर है।  

शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन वर्मा ने कहा – 'वह बिहार की बेटी है और उन्होंने बिहार का नाम रौशन किया है। बिहार को गौरवान्वित किया है। ये बातें बेमतलब की हैं। कल्पना को विद्यालय की ओर से बोर्ड परीक्षा में शामिल होने का परमिट मिला था। कल्पना कुमारी के पास योग्यता है, उन्होंने NEET की परीक्षा टॉप कर इसे साबित भी किया है।'

हालांकि, बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने कल्पना की योग्यता और वैधता पर पूरा भरोसा जताया है। बिहार बोर्ड ने साफ कहा है कि कल्पना के टॉपर होने पर कोई सवाल नहीं खड़ा कर सकता। बोर्ड के सचिव अनूप कुमार ने बताया कि बिहार विद्यालय परीक्षा समिति की नियमावली में विद्यालयों में न्यूनतम उपस्थिति के संबंध में कोई प्रावधान नहीं है।

कल्पना इस वर्ष नीट की टॉपर हुई है। वह बुधवार को इंटर साइंस की टॉपर भी हो गईं। किसी ने उनकी योग्यता पर सवाल नहीं उठाया। दरअसल, यह इसलिए पूछा जा रहा क्योंकि बिहार के अधिकांश स्कूलों के बच्चे कोचिंग और बेहतर पढ़ाई के लिए कोटा और दिल्ली में रहते हैं, जबकि उनका नाम यहां के स्कूलों में चलता है और परीक्षा देने ही वे यहां आते हैं।

कल्पना के मामले में भी यह आशंका जताई जा रही है कि वह अपने स्कूल की कक्षा में नियमित उपस्थित नहीं हुई होगी। वह दिल्ली में रहती थी तो शिवहर के वाईकेजेएम कॉलेज, तरियानी में नियमित रूप से कक्षा में कैसे उपस्थित हुई।

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com