बंगला विवाद मामले में आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी

अखिलेश यादव के सरकारी बंगला विवाद मामले  में आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है। विश्व हिंदू परिषद के  कानपुर प्रांत के गोरक्षा प्रमुख प्रभाकर सिंह चंदेल ने कहा है कि बंगले में तोड़ी गई दीवारें और सीलिंग के पीछे अखिलेश ने अवैध तरीके से कमाया गया धन छिपा कर रखा था।

प्रभाकर सिंह चंदेल ने बांदा में कहा कि पिछली सरकार ने उत्तर प्रदेश में जो लूट खसोट मचाई थी उससे जमा अवैध धन को बंगले की इन्हीं दीवारों के पीछे छिपाया गया था। दीवारों के पीछे काली कमाई से जमा किए गए रुपयों के बंडल, सोने की सिल्लियां और भारी मात्रा में हीरे जवाहरात छिपा कर रखे गए थे।थ इसी खजाने को निकालने के लिए वहां तोड़फोड़ की गई। प्रभाकर ने कहा कि रुपये और जेवरातों को छुपाने के लिए पूर्व मुख्यमंत्री के सरकारी बंगले से ज्यादा सुरक्षित जगह कोई दूसरी हो ही नही सकती थी। उन्होंने मामले की सीबीआई से जांच कराने की मांग की और कहा कि इस बात की जांच होनी चाहिए कि दीवारो को तोड़कर धन निकाला गया है कि नहीं और निकाला गया धन कहां ले जाया गया। उन्होंने तो यहां तक कह दिया कि जिन नल की टोटियों को नल की शक्ल में वहां लगाया गया था वो भी सोने की ही थी और इसकी भी जांच होनी चाहिए।

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com