26 September 2020 , Saturday
Login  
Home -> स्वास्थ्य

रिपोर्ट : इंतज़ार हुसैन
ब्यूरो हेड | बदायूं
कलेक्ट्रेट परिसर से एम्बेड परियोजना व जिला स्वास्थ्य समिति ने मलेरिया रथ को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना

कलेक्ट्रेट परिसर से एम्बेड परियोजना व जिला स्वास्थ्य समिति ने मलेरिया रथ को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना...

बदायूं। जिलाधिकारी कुमार प्रशान्त ने कलेक्ट्रेट परिसर से एम्बेड परियोजना व जिला स्वास्थ्य समिति बदायूं के द्वारा संचालित मलेरिया रथ को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। यह रथ जिला स्वास्थ्य समिति बदायूं के तत्वाधान में गोदरेज इंडिया एवं फैमिली द्वारा संचालित एम्बेड परियोजना के माध्यम से चलाया जा रहा है। मलेरिया रथ से लोग जागरूक होंगे और मलेरिया से बचाव के बारे में जानेंगे। जिला समन्वयक एम्बेड परियोजना डॉ संतोष भार्गव ने बताया कि यह रथ मलेरिया प्रभावित 100 ग्रामों में जायेगा तथा लोगों को मलेरिया से बचाव कब और कहां ले, बुखार आने पर क्या करें आदि ऑडियो के माध्यम से जागरूक करेगा। एम्बेड परियोजना स्वास्थ्य विभाग के सहयोग से सालारपुर, जगत, समरेर एवं दातागंज ब्लाक में आई0ई0सी0/बी0सी0सी0 गतिविधियां आयोजित कर रही है। जिसका उद्देश्य लोगो को मलेरिया जैसी बीमारी के बारे में जागरूक करना है। इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ यशपाल सिंह, जिला सर्विलांस अधिकारी व अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ अनिल शर्मा, जिला कार्यक्रम प्रबंधक एन0एच0एम0 कमलेश शर्मा, जिला शिक्षा एवं स्वास्थ्य अधिकारी सुधा देवी, डिप्टी सी0एम0ओ0 पवन कुमार, मलेरिया निरीक्षक तनवीर सिंह, जीसान अंसारी, सनी,  प्रोग्राम सहायक ब्रजलता यादव, बीसीसीएफ एम्बेड परियोजना सहित सभी लोग मौजूद रहे।...

23 Sep 1K ने देखा
रिपोर्ट : नीरज शुक्ला
ब्यूरो हेड | बलरामपुर
छोटे परिवार की अलख जगाएं, समाज में खुशहाली लाएं: हीरा लाल

छोटे परिवार की अलख जगाएं, समाज में खुशहाली लाएं: हीरा लाल...

बलरामपुर। परिवार के साथ ही समाज और देश की खुशहाली के लिए जरूरी हो गया है कि हर कोई छोटे परिवार के बड़े फायदे पर गंभीरता से विचार करे। इसके अलावा बच्चे का जन्म तभी हो जब माता-पिता उसके लिए पूरी तरह तैयार हों। अनचाहे गर्भ से बचने के लिए स्वास्थ्य विभाग के पास “बास्केट ऑफ च्वाइस” मौजूद है, लोग अपनी सुविधा अनुसार उसमें से कोई भी साधन अपना सकते हैं ताकि अनचाहे गर्भ धारण की समस्या से बचने के साथ ही मां-बच्चे की मुस्कान भी बनी रहे। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन उत्तर प्रदेश के अपर मिशन निदेशक हीरा लाल ने 26 सितम्बर को आयोजित होने वाले विश्व गर्भ निरोधक दिवस की तैयारियों और जागरूकता पर चर्चा करते हुए ये बात कही। सेंटर फॉर एडवोकेसी एंड रिसर्च (सीफार) और उत्तर प्रदेश तकनीकी सहयोग इकाई (यूपी टीएसयू) के सहयोग से आयोजित ऑनलाइन मीडिया कार्यशाला में हीरा लाल ने कहा कि हमारे संसाधन सीमित हैं, ऐसे में आबादी को भी सीमित रखना बहुत ही जरूरी है। दो बच्चों के जन्म के बीच कम से कम तीन साल का अंतर रखना चाहिए ताकि महिला का शरीर पूरी तरह से दूसरे गर्भधारण के लिए तैयार हो सके । इससे मातृ एवं शिशु मृत्यु दर को भी सुधार जा सकता है। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन उत्तर प्रदेश के परिवार नियोजन कार्यक्रम की महाप्रबंधक डॉ. अल्पना शर्मा ने कहा कि वर्ष 2018-19 की तुलना में वर्ष 2019-20 के परिवार कल्याण कार्यक्रमों के परिणाम बहुत उत्साहजनक थे। किन्तु वर्ष 2020-21 सत्र की शुरुआत ही कोविड-19 महामारी से हुई, इस कारण से प्रगति धीमी रही। फिर भी गर्भनिरोधक गोली छाया, प्रसव के तुरंत बाद लगने वाली पीपीआईयूसीडी और कंडोम की डिमांड ज्यादा रही। इसमें फ्रंट लाइन वर्कर (आशा, आंगनबाड़ी, एएनएम) की भूमिका सराहनीय है। कोविड के चलते अस्पतालों में नसबंदी की सेवा नहीं दी जा सकती थी तो लोगों ने अस्थायी साधनों के प्रति दिलचस्पी दिखाई।...

23 Sep 1K ने देखा
रिपोर्ट : ज्ञानेश वर्मा
ब्यूरो हेड | लखनऊ
कोरोना काल में निजी अस्पतालों की अव्यवस्थाओं को लेकर लखनऊ जिला प्रशासन ने अपनाया सख्त कदम

कोरोना काल में निजी अस्पतालों की अव्यवस्थाओं को लेकर लखनऊ जिला प्रशासन ने अपनाया सख्त कदम...

लखनऊ। राजधानी लखनऊ से कोरोना को लेकर एक बड़ी खबर सामने आई है। लखनऊ के 4 बड़े निजी अस्पतालों में कोरोना के 48 संक्रमित मरीज भर्ती किए गए थे। उनमें से कोई भी स्वस्थ होकर घर नहीं लौटा, सभी की अस्पताल में ही मौत हो गई। राजधानी लखनऊ में कोरोना के इलाज के लिए जिला प्रशासन की ओर से कई सरकारी और निजी अस्पतालों को अधिकृत किया गया था। सरकारी अस्पतालों में भर्ती हुए कोरोना के मरीजों में से कुछ स्वस्थ होकर अपने घरों को लौट गए। मगर निजी अस्पतालों में से एक बड़ी चौंकाने वाली खबर सामने आई है। लखनऊ के चंदन हॉस्पिटल में 11 मरीजों को भेजा गया था। जहां सभी की मौत हो गई। चरक अस्पताल में 10 मरीज भर्ती हुए थे। जहां सभी ने दम तोड़ दिया। जबकि बड़े-बड़े अस्पतालों में शुमार अपोलो हॉस्पिटल में 17 कोरोना पॉजिटिव मरीज भर्ती किए थे। वहां भी सभी की मौत हो गई। यही नही मेयो हॉस्पिटल में भी 10 मरीज भेजे गए थे। जहां सभी की सांसें उखड़ गई। निजी हॉस्पिटलो से यह रिपोर्ट आने के बाद सरकार के निर्देश पर प्रशासन जिला प्रशासन ने सख्त कड़ा रुख अपनाते हुए चारों अस्पतालों से रिपोर्ट तलब की है। आज सभी हॉस्पिटलों को जिला प्रशासन के पास अपना जवाब दाखिल करना है। डीएम अभिषेक प्रकाश ने कहा कि सभी अस्पतालों के खिलाफ महामारी एवं आपदा अधिनियम के तहत कड़ी कार्रवाई की जाएगी। लेकिन अब देखना यह होगा की मरीजों के इलाज के साथ खिलवाड़ करने वाले लापरवाह हॉस्पिटलों पर कारवाई कब तक होगी।...

23 Sep 222 ने देखा
रिपोर्ट : समाचार TODAY
Official | गौतम बुद्ध नगर/नोएडा
स्वास्थ्य विभाग की बड़ी लापरवाही आई सामने, देखेंगे तो रह जाएंगे दंग

स्वास्थ्य विभाग की बड़ी लापरवाही आई सामने, देखेंगे तो रह जाएंगे दंग...

देश की राजधानी दिल्ली से सटे यूपी के जनपद गाजियाबाद में स्वास्थ्य विभाग की बड़ी लापरवाही सामने आई है। कोविड-19 की एंटीजन किट जांच कर जिलाधिकारी कार्यालय और विकास भवन के सामने खुले में फेंकी गई है, जिसको देखकर साफ नज़र आ रहा है कि स्वास्थ्य विभाग की इस लापरवाही की वजह से कई लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ सकता है। एक तरफ जानलेवा कोरोना वायरस की वजह से हर कोई परेशान हैं, इसके संक्रमण से बचने के लिए शासन प्रशासन के साथ-साथ जनता लगातार कोशिश कर रही हैं, लेकिन स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही लगातार सामने आ रही हैं। ऐसी ही तस्वीर एक गाजियाबाद के डीएम ऑफिस और विकास भवन के सामने से आई है। जिसमें कोविड-19 की एंटीजन किट को खुले में ही फेंका गया हैं। जिसे देख आसपास के लोगों में हड़कंप मच गया।...

23 Sep 271 ने देखा
रिपोर्ट : प्रवेश मलिक
ब्यूरो हेड | मुजफ्फरनगर
गांव शेरपुर के प्रधान पति ने विद्यालय में बंटवाया सेनेटाइजर

गांव शेरपुर के प्रधान पति ने विद्यालय में बंटवाया सेनेटाइजर...

मुज़फ्फरनगर। थाना नगर कोतवाली क्षेत्र के गांव शेरपुर में प्रधानपति हासिम राव ने ब्लाक से आए हुए सेनेटाइजर को विद्यालय की अध्यापिकाओं के साथ साथ गांव के लोगो के बीच मे भी बंटवाया गया दरअसल कोविड 19 वैश्विक महामारी को लेकर शासन से लेकर जिला प्रशासन तक सभी पूरी तरह से सचेत है। जिसके चलते जगह जगह इस बीमारी से बचाव के लिए प्रचार प्रसार किया जा रहा है। जगह जगह पम्पलेट भी लगवाए गए है, लाउडस्पीकर के माध्यम से आमजन को जागरूक किया जा रहा है। साथ ही बचाव के लिए मास्क व सेनेटाइजर के साथ साथ उचित दूरी बनाए रखने की सलाह दी जा रही है। वही इसी कोविड 19 महामारी से बचाव के लिए ग्राम प्रधानपति के द्वारा प्राथमिक विद्यालय में पढ़ाने वाली अध्यापिकाओं एवं गांव के लोगो को सेनेटाइजर बंटवाया, यह सेनेटाइजर ब्लाक से जिला प्रशासन के कर्मचारियों के द्वारा भिजवाया गया था, जिससे कि विद्यालय में पढ़ाने वाली अध्यापिकाएं इस कोविड 19 बीमारी से बच सके।...

23 Sep 249 ने देखा
रिपोर्ट : समाचार TODAY
Official | गौतम बुद्ध नगर/नोएडा
स्वास्थ्य मंत्री ने किया ऑक्सीजन प्लांट और फ्लू सेंटर का उद्घाटन

स्वास्थ्य मंत्री ने किया ऑक्सीजन प्लांट और फ्लू सेंटर का उद्घाटन...

राजधानी दिल्ली में केजरीवाल सरकार स्वास्थ्य सेवाओं के लिए लगातार काम कर रही हैं। कोरोना काल में स्वास्थ सेवाओं को बेहतर बनाने के लिए लोगों को तमाम तरह की सुविधाएं मुहैया कराने के लिए उद्घाटन कार्यक्रम चला रही है। इसी फेहरिस्त में दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने डॉ बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर अस्पताल में लिक्विड ऑक्सीजन प्लांट एवं फ्लू क्लीनिक का उद्घाटन किया। इस मौके पर स्थानीय विधायक महेंद्र गोयल भी मौजूद रहे।वीओः इस दौरान स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने अम्बेडकर हॉस्पिटल का निरीक्षण भी किया... और अस्पताल में मरीजों को मिलने वाली सुविधाओं के बारे में भी जाना। सत्येंद्र जैन ने इस मौके पर अस्पताल प्रशासन से अस्पताल में मरीजों को मिलने वाली सुविधाओं और इलाज पर सख्त हिदायत दी।...

22 Sep 914 ने देखा
रिपोर्ट : समाचार TODAY
Official | गौतम बुद्ध नगर/नोएडा
हर मरीज को लाने व छोडने के बाद एम्बुलेंस को सेनेटाईज करना आवश्यक: डॉ. मलय मिश्रा

हर मरीज को लाने व छोडने के बाद एम्बुलेंस को सेनेटाईज करना आवश्यक: डॉ. मलय मिश्रा...

जयपुर मणिपाल हॉस्पिटल में एम्बुलेंस ड्राइवरों के लिए जागरुकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इसके तहत जयपुर व आस पास के करीब 30 ड्राईवरों को मणिपाल हॉस्पिटल के आपातकालिन विभाग के प्रमुख डॉ. मलय मिश्रा ने मरीज को लाने व ले जाने के बाद किस तरह से एम्बुलेंस को सेनेटाइज करना चाहिये इस बारे में विस्तृत जानकारी दी। डॉ. मलय ने बताया कि वर्तमान हालात में हम यह नहीं कह सकते की कौनसा मरीज कोरोना संक्रमित है और कौन सा नहीं। मरीज को लाने व ले जाने से मना भी नहीं कर सकते इस कारण हमें ज्ञात होना चाहिये की कौनसी -कौनसी सवाधानीयां बरत कर हम संक्रमण को रोक सकते है। डां. मलय ने बताया की सेनेटाईज करने वाले स्टॉफ को सेनेटाईज करते समय एन-95 मॉस्क व हैंड ग्लवस का हमेशा प्रयोग करना चाहिये व 1 प्रतिषत हाईपोक्लोराईड के घोल से एम्बुलेस को हॉरिजॉन्टल व वर्टीकल सफाई के साथ-साथ उसके अन्य पार्टस जैसे की स्ट्रेचर, मॉनीटर, बैड रेल्स, इन्फेक्शन पम्प आदि को भी सेनेटाईज करना चाहिये। इन सब को करने में मात्र 30 मिनीट का समय लगता है लेकिन ऐसा करके हम कोरोना के संक्रमण को रोक सकते है। हॉस्पिटल डायरेक्टर श्री जी. कार्थिहेवेलन ने कहा की मणिपाल हॉस्पिटल सामाजिक सरोकार के कार्यों में शुरु से ही अग्रणि रहा है। इस पहल के द्वारा हम प्रदेश के सभी एम्बुलेंस ड्राइवरों को सेनेटाईजेशन का महत्व बताने के साथ ही उन्हे सिखा भी रहें हैं कि किस तरह से कम समय में सेनेटाईज किया जा सकता है। आपको बता दे कि स्वास्थ्य सेवा में अग्रणी के रूप में, मणिपाल हॉस्पिटल भारत में सबसे बड़े हॉस्पिटल नेटवर्क में से है। जो सालाना 2 मिलियन से अधिक रोगियों की सेवा करता है। इसका फोकस अपने पूरे मल्टीस्पेशलिटी डिलीवरी स्पेक्ट्रम के माध्यम से एक सस्ती टर्शरी केयर मल्टीस्पेशलिटी हेल्थकेयर फ्रेमवर्क विकसित करना है। इसे होमकेयर तक विस्तारित करना है। बैंगलोर, भारत में स्थित अपनी प्रमुख चतुष्कोणीय देखभाल सुविधा के साथ, 7 टर्शरी केयर देखभाल, 5 सेकण्ड्री केयर देखभाल और 2 प्रायमरी केयर क्लीनिक भारत और विदेशों में फैले हुए हैं। आज मणिपाल हॉस्पिटल सफलतापूर्वक संचालित होकर 15 हॉस्पिटलों में 5,900 बेड का प्रबंधन करते हैं। मणिपाल हॉस्पिटल दुनिया भर से रोगियों के लिए व्यापक उपचारात्मक और निवारक देखभाल प्रदान करता है। मणिपाल हॉस्पिटल्स का नाइजीरिया के लागोस में डे केयर क्लिनिक है। नैदानिक अनुसंधान गतिविधियों में नैतिक मानकों के लिए AAHRPP द्वारा मान्यता प्राप्त होने के लिए मणिपाल हॉस्पिटल भारत में पहले स्थान पर है। यह NABL, NABH और ISO प्रमाणित भी है। मणिपाल हॉस्पिटल भारत की सबसे सम्मानित हॉस्पिटल कंपनी है और उपभोक्ता सर्वेक्षण के द्वारा भारत में सबसे अधिक रोगियों ने इस हॉस्पिटल की अनुशंसा की है।...

21 Sep 669 ने देखा
रिपोर्ट : समाचार TODAY
Official | गौतम बुद्ध नगर/नोएडा
कोरोना वैक्सीन को लेकर बड़ी खबर, देखिए क्या बोले एम्स के डॉक्टर

कोरोना वैक्सीन को लेकर बड़ी खबर, देखिए क्या बोले एम्स के डॉक्टर...

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान ने कहा कि देश में विभिन्नक जगहों पर कोरोना वैक्सीन के दूसरे चरण का ट्रायल चल रहा है। इसमें 600 से अधिक वालंटियर्स शामिल हैं। नई दिल्ली, स्थित एम्सच के सामुदायिक चिकित्सा विभाग के प्रमुख डॉ. संजय राय ने कहा कि यदि सब कुछ योजना के मुताबिक चला तो कोई भी वैक्सीन अगले साल के मध्य तक दुनिया में कहीं भी आ जाएगी। ऐसे में अगले साल के मध्य तक ही स्थिति सामान्य होने की संभावना है। उल्होंने कहा कि जब तक इस महामारी से बचाव का कोई प्रभावी टीका उपलब्ध नहीं होता है, तब तक निवारक उपाय जैसे मास्क, हाथ की सफाई आदि का पालन किया जाना बेहद जरूरी है। डॉ. राय ने ये भी बताया कि अप्रैल-मई में आयोजित किए गए ICMR के सेरोसर्वे में 18 वर्ष से अधिक उम्र के 64 लाख वयस्क संक्रमित पाए गए थे। सेरो-सर्वेक्षण केवल संक्रमण की दिशा को दर्शाता है जबकि परीक्षण से संक्रमण की वास्तविक संख्या पता चलती है।...

21 Sep 556 ने देखा
रिपोर्ट : समाचार TODAY
Official | गौतम बुद्ध नगर/नोएडा
पुरकाजी रोडवेज परिसर में लगाया गया कोरोना टेस्ट कैंप

पुरकाजी रोडवेज परिसर में लगाया गया कोरोना टेस्ट कैंप...

मुज़फ्फरनगर के पुरकाजी में रोडवेज परिसर में कोरोना टेस्ट सेंपलिंग कैंप का उद्धघाटन बीजेपी विधायक प्रमोद उटवाल ने फीता काटकर किया। इस मौके पर बीजेपी विधायक ने लोगों से कोरोना से बचाव की अपील की। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा लोगों की परेसानी को देखते हुए जगह-जगह सेंपलिंग टेस्ट कैंप लगवा रही है,और बहुत जल्द देश के वैज्ञानिक कोरोना के खात्मे की दवाई बना लेंगे तब तक बचाव ही सुरक्षा है।वहीं इसी दौरान बीजेपी विधायक ने गांव फ्लोदा के सरकारी स्कूल में पहुंचकर वृक्षारोपण किया। विधायक ने बताया कि प्रधानमंत्री के जन्मदिन के मौके पर चल रहे सेवा सप्ताह कार्यक्रम के तहत जहां गरीबो की सहायता की जा रही है, वहीं जगह जगह पेड़ भी लगाए जा रहे है ताकि वातावरण शुद्ध बना रहे।...

21 Sep 155 ने देखा
रिपोर्ट : नीरज शुक्ला
ब्यूरो हेड | बलरामपुर
विश्व अल्जाइमर दिवस: बड़े बुजुर्गों को प्यार और सम्मान देकर उन्हें इस बीमारी से करें दूर

विश्व अल्जाइमर दिवस: बड़े बुजुर्गों को प्यार और सम्मान देकर उन्हें इस बीमारी से करें दूर...

बलरामपुर। उम्र बढ़ने के साथ ही तमाम तरह की बीमारियां हमारे शरीर को निशाना बनाना शुरू कर देती हैं। इन्हीं में से एक प्रमुख बीमारी बुढ़ापे में भूलने की आदतों (अल्जाइमर्स-डिमेंशिया) की है, ऐसे बुजुर्गों की तादाद बढ़ रही है। इसलिए जरूरी है कि बुजुर्गों को डिमेंशिया से बचाने के लिए परिवार के सभी सदस्य उनके प्रति अपनापन रखें। अकेलापन न महसूस होने दें, समय निकालकर उनसे बातें करें, उनकी बातों को नजरंदाज कदापि न करें बल्कि उनको ध्यान से सुनें। ऐसे कुछ उपाय करें कि उनका मन व्यस्त रहे, उनकी मनपसंद की चीजों का ख्याल रखें। निर्धारित समय पर उनके सोने-जागने, नाश्ता व भोजन की व्यवस्था का ध्यान रखें । मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. घनश्याम सिंह ने रविवार को बताया कि हर साल 21 सितम्बर को विश्व अल्जाइमर्स-डिमेंशिया दिवस मनाया जाता है। इसका उद्देश्य जागरूकता लाना है ताकि घर-परिवार की शोभा बढ़ाने वाले बुजुर्गों को इस बीमारी से बचाकर उनके जीवन में खुशियां लायी जा सकें। इसी के तहत 21 से 27 सितम्बर तक चलने वाले राष्ट्रीय डिमेंशिया जागरूकता सप्ताह के तहत विभिन्न कार्यक्रमों के जरिये इस बीमारी की सही पहचान और उससे बचाव के उपायों के बारे में जागरूकता लाने की बड़ी कोशिश की जायेगी। डॉ घनश्याम सिंह का कहना है कि अमूमन 65 साल की उम्र के बाद लोगों में यह बीमारी देखने को मिलती है या यूं कहें कि नौकरी-पेशा से सेवानिवृत्ति के बाद यह समस्या पैदा होती है। इसके लिए जरूरी है कि जैसे ही इसके लक्षण नजर आएं तो जल्दी से जल्दी चिकित्सक से परामर्श करें ताकि समय रहते उनको उस समस्या से छुटकारा दिलाया जा सके। इस बीमारी के प्रमुख लक्षणों में से एक है कि जीवन शैली में एकदम से बदलाव आना जैसे-शरीर में आलसपन का आना, लोगों से बात करने से कतराना, बीमारियों को नजरंदाज करना, भरपूर नींद का न आना, किसी पर भी शक करना आदि।...

20 Sep 899 ने देखा
रिपोर्ट : समाचार TODAY
Official | गौतम बुद्ध नगर/नोएडा
देखें इस शख्स ने किया कोरोना से निजात पाने की दवाई बनाने का दावा

देखें इस शख्स ने किया कोरोना से निजात पाने की दवाई बनाने का दावा...

एक तरफ पूरा देश कोरोना जैसी वैश्विक महामारी से जूझ रहा है तो वहीं पूरी दुनिया इसका इलाज ढूंढने में लगी हुई है। वही अगर हम बात करें वाराणसी में तो यहां भी रोजाना बड़ी मात्रा में कोरोना पॉजिटिव मरीज निकल कर सामने आ रहे हैं। दूसरी तरफ वाराणसी के सामने घाट निवासी वैद्य डॉक्टर राजकुमार सिंह ने पत्रकार वार्ता कर कोरोना से निजात पाने की आयुर्वेदिक दवाई बनाने का दावा किया है। दरअसल राजकुमार सिंह का कहना है कि उनके द्वारा बनाई हुई इस दवा से अब तक लगभग 70 मरीज ठीक हो चुके हैं। वहीं, बलिया निवासी जितेंद्र सिंह का भी कहना है कि वो अपने एक रिश्तेदार को डॉ. राजकुमार सिंह के पास लाए थे जो कि कोरोना पॉजिटिव था तो डॉक्टर द्वारा दी गई आयुर्वेदिक दवाई से वो ठीक हुआ। डॉ राजकुमार सिंह द्वारा ये भी कहा गया कि वे अपनी दवाइयों का सैंपल सरकार को सौंपेंगे। बहरहाल यह देखना दिलचस्प होगा कि शासन प्रशासन इन पर कितना विश्वास करती है और उसके आगे की क्या कार्रवाई क्या होगी।...

19 Sep 1K ने देखा
रिपोर्ट : समाचार TODAY
Official | गौतम बुद्ध नगर/नोएडा
कोरोना से पीड़ित पूर्व सीएम कल्याण सिंह की हालत स्थिर

कोरोना से पीड़ित पूर्व सीएम कल्याण सिंह की हालत स्थिर...

पूर्व मुख्यमंत्री और दिग्गज़ नेताओं में शुमार कल्याणसिंह भी कोरोना वायरस की ज़द में है। उन्हें दिल्ली से सटे गाजियाबाद के कौशांबी में स्थित कोविड अस्पताल यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल में उपचार के लिए भर्ती किया गया है, जहां उन्हें निजी रूम में रखा गया है। उनका उपचार यशोदा हॉस्पिटल के वरिष्ठ फेफड़ा रोग विशेषज्ञ प्रोफेसर डॉक्टर आरके मनी, डॉक्टर केके पांडे, डॉक्टर अर्जुन खन्ना एवं डॉ अंकित सिन्हा की टीम कर रही है। इसके साथ ही उन्हें अन्य बीमारियों की वजह से वरिष्ठ फिजीशियन डॉ एपी सिंह, वरिष्ठ हृदय रोग विषेशज्ञ डॉ असित खन्ना, डायबिटीज विशेषज्ञ डॉ अमित छाबड़ा, न्यूरोलोजिस्ट डॉ सुमंतो चटर्जी, यूरोलॉजिस्ट डॉ कुलदीप अग्रवाल और नेफ्रोलॉजिस्ट डॉ विद्यानन्द की विशेष निगरानी में रखा गया है। हॉस्पिटल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ अनुज अग्रवाल ने बताया कि कल्याण सिंह की हालत स्थिर बनी हुई है।...

18 Sep 1K ने देखा
रिपोर्ट : समाचार TODAY
Official | गौतम बुद्ध नगर/नोएडा
कोरोना को लेकर देखिए ये बोल दिया शिवसेना नेता संजय राउत ने

कोरोना को लेकर देखिए ये बोल दिया शिवसेना नेता संजय राउत ने...

सदन में कोरोना वायरस को लेकर शिव सेना नेता संजय राउत ने बयान दिया है। उन्होने सदन के उन सदस्यों को करारा जवाब दिया जो महाराष्ट्र में बढ़ते कोरोना मामलों पर शिव सेना सरकार को घेरने की कोशिश कर रहे थे। संजय राउत ने तंज कसते हुए कहा कि मैं सदस्यों से पूछना चाहता हूं कि इतने लोग कैसे ठीक हुए? क्या सभी लोग भाभीजी का पापड़ खाकर ठीक हो गए? उन्होंने कहा कि ये एक राजनीतिक लड़ाई नहीं है बल्कि लोगों के जीवन को बचाने की लड़ाई है। राउत ने कहा, "मेरी माँ और मेरा भाई COVID-19 से संक्रमित हैं. महाराष्ट्र में भी कई लोग ठीक हो रहे हैं. आज धारावी में स्थिति नियंत्रण में है. WHO ने BMC के प्रयासों की सराहना की है. मैं इन तथ्यों को बताना चाहता हूं क्योंकि यहां कुछ सदस्य महाराष्ट्र सरकार की आलोचना कर रहे थे।...

18 Sep 1K ने देखा
रिपोर्ट : समाचार TODAY
Official | गौतम बुद्ध नगर/नोएडा
कोरोना पर राज्यसभा में बोले स्वास्थ्य मंत्री, अगले साल तक आ जाएगी वैक्सीन

कोरोना पर राज्यसभा में बोले स्वास्थ्य मंत्री, अगले साल तक आ जाएगी वैक्सीन...

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने मानसून सत्र के दौरान राज्यसभा में बताया कि कोरोनावायरस वैक्सीन भारत में अगले साल के शुरुआत तक आ जाएगी। सदन में स्वास्थ्य मंत्री ने देश में कोविड-19 की स्थिति और इसके रोकथाम के लिए सरकार द्वारा उठाए गए कदमों की जानकारी देते हुए ये बयान दिया। डॉ. हर्षवर्धन ने राज्यसभा में कहा कि अन्य देशों की तरह भारत भी वैक्सीन के लिए प्रयास कर रहा है। तीन वैक्सीन कैंडिडेट का परीक्षण अलग-अलग चरणों में है। प्रधानमंत्री के मार्गदर्शन में विशेषज्ञों का एक समूह इसे देख रहा है। हमें उम्मीद है कि अगले साल की शुरूआत तक भारत में वैक्सीन उपलब्ध हो जाएगी। स्वास्थ्य मंत्री का ये बयान ऐसे वक्त पर आया है, भारत में कोविड के मामलों की संख्या 51 लाख के पार पहुंच चुकी है और देशवासी बेसब्री से वैक्सीन का इंतजार कर रहे हैं।...

18 Sep 755 ने देखा

© COPYRIGHT Samachar Today 2019. ALL RIGHTS RESERVED. Designed By SVT India