जन आशिर्वाद यात्रा पर पत्नी संग निकले सीएम शिवराज

भोपाल से शाहबाज खान की रिपोर्ट

कहते हैं हर मर्द की कामयाबी के पीछे एक औरत का हाथ होता है। राजनीति भी इससे अलग नहीं है। शिवराज सिंह चौहान इन दिनो जन आशीर्वाद यात्रा के जरिए राज्य के लोगों से मुलाकात कर रहे हैं। मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। ऐसे में मुख्य राजनीतिक दल प्रचार के लिए नए-नए विचारों के साथ जनता के सामने हैं। बात करे बीजेपी की जन आशीर्वाद यात्रा की, तो सीएम शिवराज के साथ उनकी पत्नी भी बिना किसी शोर के इस यात्रा में उनका साथ निभाती दिख रही हैं। शिवराज की पत्नी साधना सिंह चौहान पूरी यात्रा के दौरान उनके साथ रहेंगी। एक ओर सीएम शिवराज सिंह चौहान बस की आगे वाली सीट पर बैठकर लोगों का अभिवादन स्वीकार रहे हैं वहीं बस की पिछली सीट से उनकी पत्नी साधना सिंह चौहान कारवां संभाले हुए हैं। वह बस की पिछली सीट से बाहर झांकते हुए कहती हैं, 'एक बुजुर्ग हमारे पीछे करीब एक किमी से दौड़ रहा है, बस रोकिए मुझे उनसे बात करनी है।' इसके बाद वह बुजुर्ग का आशीर्वाद लेती हैं। एक महीने से ज्यादा समय तक चलने वाली इस यात्रा में साधना चुपचाप लेकिन एक महत्वपूर्ण किरदार निभा रही हैं। 
हमारे सहयोगी इकनॉमिक टाइम्स से बातचीत में साधना कहती हैं, 'मैं उनके साथ पूरी यात्रा में शामिल रहूंगी। बस में सवार बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा कहते हैं, 'वह एक राजनीतिक कार्यकर्ता की तरह काम कर रही हैं।' जब शिवराज बस भूख लगने पर बस की पिछली पर जाते हैं तो वह घर का बना हुआ खाना खिलाती हैं। 
इस दौरान वह बताती हैं कि कैसे उनके पति (शिवराज) रास्ते में मिलने वाले आम लोगों की बात सुनते हैं उनकी आर्थिक मदद करते हैं। उनकी यात्रा सुबह 9 बजे से लेकर आधी रात तक चलती है। साधना कहती हैं, 'हम रात ढाई बजे तक रैली करते रहे।' साधना यात्रा के दौरान होने वाली सार्वजनिक बैठक में मुख्यमंत्री के बगल में बैठती हैं। 
इस समय में जब महिलाओं की सुरक्षा और उनके खिलाफ अपराध चुनावों में मुख्य मुद्दा है ऐसे में यह 'पावर कपल' सीएम की पारिवारिक शख्स वाले व्यक्तित्व को बयां करता हैं जो महिलाओं और बच्चियों के लिए फिक्रमंद हैं। बुधवार और गुरुवार को सागर और टीकमगढ़ में यात्रा के दौरान सीएम दो रातों से भोपाल से दूर हैं। यही नहीं यात्रा का समय भी एक महीने और बढ़ गया है जिससे अब प्रदेश के लोग इस पावर कपल को हर हफ्ते 5 दिन बस में सवार देख सकेंगे। 
प्रभात झा ने कहा, 'यात्रा पहले 25 सितंबर तक समाप्त होने वाली थी लेकिन अब उस दिन पार्टी 10 लाख कार्यकर्ताओं के साथ बैठक करने वाली है इसलिए पार्टी ने यात्रा को 24 अक्टूबर तक जारी रखने का फैसला किया है। चुनाव प्रचार के लिए यात्रा एक बड़ा हिस्सा है।' वह आगे कहते हैं कि यह बीजेपी यात्रा है न कि सरकारी इवेंट जैसा कांग्रेस आरोप लगा रही है। करीब 100 गाड़ियां सीएम के जुलूस का हिस्सा हैं। 

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com