ड्यूटी कर रही महिला कांन्स्टेबल की तस्वीर देख पसीजा DGP का दिल, करवाया ट्रांसफर, पढ़े क्या है पूरा मामला

इन दिनों यूपी पुलिस की एक महिला कॉन्स्टेबल की फोटो वायरल हो रही है। इस फोटो में एक महिला सिपाही बैठी दिख रही है और सामने एक टेबल पर उनका बच्चा सो रहा है। दरअसल, झांसी में महिला पुलिस कॉन्स्टेबल अर्चना जयंत हर दिन की तरह सामान्य रूप से अपनी ड्यूटी पर थीं. मगर जैसे ही उनकी तस्वीर सोशल मीडिया पर आई, उनके प्रशंसकों की बाढ़ सी आ गई. क्योंकि जिस रूप में वह थाने में अपनी ड्यूटी निभाती दिखीं, वह कोई सामान्य बात नहीं. रविवार को ट्विटर पर एक तस्वीर आई, जिसमें अर्चना अपनी बच्ची के साथ दिखीं. थाने में वह एक ही वक्त में अपनी बच्ची की देखभाल भी कर रही हैं और अपनी ड्यूटी भी ईमानदारी से निभा रही हैं. 

मूल रूप से कानपुर के बर्रा निवासी राजेन्द्र प्रसाद जाटव की पुत्री अर्चना जयंत जाटव ने एमए/बीएड की है। पुलिस के अनुशासन व कार्यप्रणाली ने उन्हें पुलिस की सेवा के लिए प्रेरित किया और उनका चयन 2016 में उत्तर प्रदेश पुलिस में महिला कांस्टेबल के पद पर हो गया। अर्चना की पहली तैनाती झांसी के थाना कोतवाली में हुई। उनका विवाह नौकरी के पूर्व ही मारुति कंपनी गुड़गांव में कार्यरत अकाउंट मैनेजर नीलेश जयंत से हो गया था, किन्तु नौकरी की चाह ने उन्हें पुलिस में सेवा का अवसर दिया।

स्थानीय मीडिया रिपोर्ट की मानें तो अर्चना की 6 महीने की बेटी है, जिसका नाम अनिका है. वह अपने साथ अपनी छोटी सी बेटी को पुलिस स्टेशन लाती है, क्योंकि उनके घर पर बच्चे की देखभाल करने वाला कोई नहीं है. जैसे ही बच्ची को डेस्क पर रख अपना काम करतीं अर्चना की तस्वीर उनके सीनियर अधिकारियों तक पहुंची, इसे देख वह काफी प्रभावित हुए. उनके सीनियर अधिकारियों ने उनके इस समर्पण के लिए 1000 रुपये के इनाम की घोषणा की. 
इस तस्वीर को देखने के बाद ट्विटर पर कई लोगों ने कहा कि पुलिस को कमाकाजी मदर्स और उनके नवजात बच्चे को बेहतर सुविधा देनी चाहिए. वहीं, कुछ ने कहा कि पुलिस सुधार अभी वक्त की मांग है. 

अर्चना की 10 वर्ष एक पुत्री कनक और दूसरी 6 माह की अनिका है। अनिका के जन्म लेने के पूर्व ही उन्होंने मेटरनिटी लीव ली थी और एक माह पूर्व ही वह अपनी डयूटी पर वापस आई थीं। अनिका को वह अकेला नहीं छोड़ सकतीं थीं, इसलिए वह उसे साथ लेकर ही अपनी डयूटी को अंजाम देने लगी। अर्चना को मां की ममता व वर्दी का फर्ज निभाते देख पुलिस के प्रति लोगों की सोच इस एहसास में बदल गई है कि कठोर खाकी के अंदर भी मां का दिल धड़कता है। 

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com