डॉ. कफील ने बीजेपी सांसद कमलेश पासवान और बलदेव प्लाजा के मालिक पर लगाए हमले के आरोप

गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में बच्चों की मौत से चर्चा में आए डॉ.कफील खान ने अपने भाई कासिफ जमील पर हमले को लेकर सनसनीखेज आरोप लगाए हैं। डॉ. कफील ने कहा है कि हमले के लिए बांसगांव से बीजेपी सांसद कमलेश पासवान और बलदेव प्लाजा के मालिक सतीश नांगलिया का हाथ है। इसके लिए बाकायदा शूटर्स हायर किये गए थे। रविवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में डॉ.कफील ने कहा कि कमलेश पासवान से उनके भाई की कोई व्यक्तिगत दुश्मनी नहीं थी। उनके चाचा की जमीन के एक हिस्से पर कमलेश और सतीश नांगलिया ने अतिक्रमण किया था। जमीन को लेकर फरवरी से ही यह विवाद चल रहा है। इस मामले में प्राथमिकी भी दर्ज हुई और हाई कोर्ट ने गिरफ्तारी पर रोक लगा दी थी। डॉ.कफील ने यूपी पुलिस की कार्रवाई पर सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि पुलिस ने 48 घंटे में कार्रवाई की बात कही थी, लेकिन आज घटना को हुए एक सप्ताह हो चुका है और अब तक किसी भी आरोपी की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है। उन्होंने पुलिस पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि पुलिस किसी और के इशारे पर काम कर रही है। डॉ.कफील ने सरकार के सामने तीन मांगें भी रखी। पुलिस पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाते हुए उन्होंने एसपी सिटी विनय सिंह और सीओ प्रवीण सिंह को सस्पेंड करने की मांग की। उन्होंने कहा कि ज़रूरत पड़ी तो वह इस मामले को लेकर कोर्ट और मानावाधिकार आयोग का दरवाजा भी खटखटाएंगे। इसके अलावा डॉ.कफील ने कासिफ पर हुए जानलेवा हमले की जांच सीबीआई या फिर हाई कोर्ट के जज से कराने की मांग की। साथ ही, अपनी जान को खतरा बताते हुए डॉ. कफील ने कहा कि उनके परिवार को और सुरक्षा दिए जाने की मांग की है। उधर, बांसगांव सांसद कमलेश पासवान ने भी प्रेसवार्ता कर डॉ. कफील के आरोप को खारिज किया। पासवान ने कहा कि कासिफ और डॉ. कफील दोनों ही विवादित रहे हैं। मेडिकल कॉलेज गैस कांड के आरोपी रहे डॉ. कफील की जेल से छूटने के बाद मनोदशा ठीक नहीं है इसलिए वह पब्लिसिटी के लिए उन पर आरोप लगा रहे हैं। उन्होंने कहा कि पिछली सरकार में कासिफ ने दर्जनों जमीनों पर कब्जा किया। डॉ.कफील खान पर फर्जी डिग्री और रेप समेत कई मामले लंबित हैं। सांसद कमलेश पासवान ने पुलिस प्रशासन से मांग की कि इस घटना का जल्द खुलासा किया जाए ताकि वह इस संबंध में मानहानि का केस कर सकें।

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com