हाथरस में पुलिस भर्ती परीक्षा में चैकिंग के दौरान एक मुन्नाभाई धरदबोचा

पुलिस भर्ती परीक्षा में मुन्नाभाई और दलालों द्वारा फर्जीवाड़े के मामले लगातार सामने आ रहे हैं। ताजा मामला हाथरस का है। यहां 2015 में पुलिस भर्ती परीक्षा की लिखित परीक्षा पास कर चुका दिनेश नाम का व्यक्ति सतीश नाम से फर्जी मार्कशीट बनवाकर अपना मेडिकल परीक्षण और प्रमाण पत्रों का सत्यापन कराने आया था। हाथरस की सादाबाद पुलिस जब प्रमाण पत्रों की जांच करने पहुंची तो उसे फर्जीवाड़े का पता चला। जांच के दौरान पता चला कि सतीश नाम के शख्स की 18 महीना पहले ही फौज में नौकरी लग चुकी है। जब पुलिस ने दिनेश से सख्ती से पूछताछ की तो उसने सारा राज उगल दिया। दिनेश ने बताया कि उससे अलीगढ़ निवासी भोला ने नौकरी लगवाने के नाम पर 5 लाख में सौदा किया है और 2 लाख रुपये एडवांस ले लिए हैं। दिनेश ने बताया कि भोला ने ही उसे पुलिस भर्ती परीक्षा के लिए फर्जी मार्कशीट बनाकर दी थी। इसके बाद पुलिस ने भोला को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो सारा मामला सामने आ गया। भोला पुलिस का बर्खास्त सिपाही निकला। वह लोगों से फर्जी मार्कशीट बनवाकर नौकरी लगवाने के नाम पर पैसों की वसूली करता है। पुलिस ने भोला के पास से 81 हजार रुपये भी बरामद किए हैं। फिलहाल पुलिस भोला और दिनेश से पूछताछ कर रही है। पुलिस को शक है कि भोला एक फर्जी नौकरी लगवाने वाले सक्रिय गिरोह का सदस्य है। उसके तार अन्य लोगों से भी जुड़े हो सकते हैं।

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com