कठिन प्रशुक्षणों के दौर से गुजरकर सेना में लेफ्टिनेंट बने मुजफ्फरनगर के हितेश, करगिल युद्ध में शहिद हुए थे पिता

देश सेवा का जज्बा लिए भारतीय सैन्य अकादमी से शनिवार को 457 सैन्य अधिकारी पास आउट हो गए। कठिन प्रशिक्षण के बाद पास आउट हुए सैन्य अधिकारियों में से 383 भारतीय सेना के अंग बन गए। इसके अलावा पास आउट्स होने वाले कैडेटों में 74 विदेशी कैडेट भी शामिल थे। इन्हीं में से एक थे मुजफ्फरनगर के लाल हितेश कुमार। बाकी कैडेट्स् की तरह कठिन प्रशिक्षणों के दौर से गुजरने के बाद पास हुए हितेश सेना में लेफ्टिनेंट बन गए हैं।

शहिद पिता की प्रतिमा पर माल्यार्पण करते हुए

लेफ्टिनेंट बनने के बाद हितेश रविवार को मुजफ्फरनगर पहुंचे। लेफ्टिनेंट हितेश कुमार ने मुजफ्फरनगर के सिविल लाइंस इलाके में करगिल युद्ध में शहीद हुए अपने पिता लांस नायक बच्चन सिंह की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्हें नमन किया। एसपी सिटी ओमवीर सिंह ने भी शहीद बच्चन सिंह को माल्यार्पण किया। इस मौके पर हितेश की मां कामेश बाला भी मौजूद थीं। आपको बता दें कि बच्चन सिंह 12 जून 1999 को करगिल के तोलोलिंग में दुश्मनों से लड़ते हुए शहीद हो गए थे।

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com