पाकिस्तान में पहली बार एक हिंदू महिला चुनाव लड़कर रचेगी इतिहास…

पाकिस्तान में पहली बार एक हिंदू महिला 25 जुलाई को होने वाले प्रांतीय असेंबली चुनाव में किस्मत आजमाएंगी। मुस्लिम बहुल पाकिस्तान में पहली बार अल्पसंख्यक समुदाय की कोई महिला चुनाव लड़कर इतिहास रचेगी।

सिंध प्रांत में मेघवार समुदाय से ताल्लुक रखने वाली 31 वर्षीय सुनीता परमार को भले ही किसी पार्टी ने टिकट ना दिया हो, लेकिन अब उसने थारपारकर जिले के PS-56 संसदीय क्षेत्र से चुनाव लड़ने का निर्णय लिया है। पाकिस्तान के इसी क्षेत्र में सबसे ज्यादा हिंदू की संख्या है।

पाक की मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, आत्मविश्वास से भरी परमार का कहना है कि उन्होंने चुनाव लड़ने का फैसला इसलिए किया क्योंकि पूर्व की सरकारें उनके निर्वाचन क्षेत्र के लोगों से किए गए वायदों को पूरा करने और उनका जीवन स्तर सुधारने में असफल रहीं हैं।
मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, सुनीता ने कहा कि पूर्व सरकार की वादाखिलाफी के कारण उन्होंने चुनाव लड़ने का फैसला लिया। उस सरकार ने लोगों के जीवन स्तर को बेहतर बनाने का कोई काम नहीं किया। इतना ही नहीं, 21वीं सदी में भी यहां महिलाओं के लिए मूलभूत सुविधाओं की कमी है। सुनीता कहती हैं कि अगर चुनाव जीत गईं, तो वह अपने विधानसभा क्षेत्र में बेटियों की शिक्षा और स्वास्थ्य सुविधाओं को बेहतर करेंगी।

साल 2017 की जनगणना के मुताबिक, थारपारकर जिले की कुल जनसंख्या 16 लाख है, जिसमें से आधे हिंदू हैं। बता दें, यह अकेली ऐसी सीट है, जहां पूरे पाकिस्तान के मुकाबले हिंदू मतदाताओं की संख्या सबसे अधिक है।

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com