महिलाएं 40 की उम्र में पाए मिस्कैरिजों से छुटकारा

40 की उम्र में पाए मिस्कैरिजों से छुटकारा बदलते समय ने आम लोगों की जिंदगियों में भी काफी बदलाव किया है इस बदलाव में महिलाओं ने आगे आकर मोर्चा संभला है । पहले, लडकियां 20 साल की उम्र में शादी कर लेती थी वो आज 40 की उम्र में बच्चे के बारे में सोच रही है । जो कि एक नए समय का आगाज है।लेकिन समय के साथ बदलती सोच का हर्जाना महिलाओं को भुगतना पड़ रहा है । देखा जा रहा है कि पिछले 5 साल में करीब 33 प्रतिशत कामकाजी महिलाएं 40 के पड़ाव पर बच्चें के बारे में सोचती है । जो कि एक समस्या का सबब बन गया है क्योंकि परिवारों में धारणा है कि 40 साल की उम्र में बच्चा पैदा करना मुश्किल होता है। माना जाता है कि बढ़ती उम्र के कारण महिलाओं में अण्डों की कमी के चलते बांझपन का शिकार हो जाती है । मेडिकल विशेषज्ञों का कहना है कि इन्फर्टिलिटी होना सामान्य बात है क्योंकि 35 की उम्र शरीर में क्रोमोसोम कमी होती है।

जिसके चलते महिलाएं गर्भवती हो भी जाए तो भी मिस्कैरिज का डर बना रहता है । बढ़ती उम्र के दौरान महिलाओं के 79 प्रतिशत एम्ब्रीओ में अनियमितता आने लगती है इसलिए गर्भवती महिलाओं के तिमाही में असामान्य क्रोमोसोम के कारण असामान्य रोग हो जाते है जिससे होने वाला बच्चे में डाउन सिन्ड्रोम , एडवर्ड सिंड्रोम और पटाउ सिंड्रोम जैसी भयंकर बीमारियों का शिकार होना पड़ता है। सिंड्रोम से बच्चे को बचाने के लिए नामी गिरामी संस्था आईजेनोमिक्स से मशविरा करना चाहिए । आईजेनोमिक्स के पास नई तकनीकों में शुमार प्री-इम्प्लैन्टैशन जेनेटिक स्क्रीनिंग (पीजीएस) तकनीक है । तकनीक की खासियत है कि इसके माध्यम से प्रत्यारोपित होने वाले एम्ब्रीओ में से विकारों की स्क्रीनिंग की जाती है जिससे कोई भी आनुवांशिक बीमारी यूटरस में स्थानानतरित न हो सके । जिससे स्वास्थ एम्ब्रीओ के द्वारा माता स्वास्थ बच्चें को जन्म दे सके । आईजेनोमिक्स का मानना है कि देर से मां बनने वाली महिलाओं को पीजीएस तकनीक से होकर गुजरना चाहिए जिससे होने वाले बच्चे को स्वस्थ और सुरक्षित पैदा किया जा सके । अगर आप सुनी गोद भरने का एहसास 40 की उम्र महसूस करना चाहती है तो आपको एक बार आईजेनोमिक्स जैसी नामी संस्था के डॉक्टरों से संपर्क साधना चाहिए,जिससे आपका बच्चा अच्छे भविष्य का गवाह हो सके ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com