बलिया में अपने ही हाथों से अपने मकान तोड़ रहे लोग, कारण हैरान करने वाला है…

रिपोर्ट – अखिलेश सैनी

Edit By – अनुज पांचाल

उत्तर प्रदेश – आपने अब तक लोगों को अपना आशियाना बनाते हुए देखा होगा। लेकिन जिस आशियाने को बनाने में उन्हें सालों लग जाते हैं उन्हें तोड़ते हुए नहीं देखा होगा। लेकिन बलिया के चौबे छपरा गांव में लोग अपने ही हाथों से अपने आशियाने उजाड़ रहे हैं। ऐसा करना उनकी मजबूरी है। गंगा नदी के किनारे बसने वाले लोग कटान के डर से अपने कलेजे पर पत्थर रखकर अपने ही हाथों से अपने ही मकानों को तोड़ रहे हैं। ऐसा हर साल होता है और इस बार भी हो रहा है। यहां रहने वाले लोग अपने कुनबे को लेकर अपना घर खाली कर सड़क पर रहने के लिए मजबूर हैं। तो कुछ लोग अपना आशियाना तोड़कर प्लासटिक का छत डालकर रह रहे हैं। वे मजबूर हैं। क्योंकि नदी उनके घर के करीब पहुँच गई है और कभी भी उनके घरों को अपने आगोश में ले ले सकती है। ग्रामीणों का कहना है कि यहां कई सालों से इस गांव में गंगा नदी अब तक सैकड़ों घर को जमींदोज कर चुकी है। लेकिन अब तक किसी भी जनप्रतिनिधि ने उनका हाल पूछने की ज़रूरत नहीं समझी। हाल तो नहीं पूछा..लेकिन अक्सर अनमोल बोल बोलने वाले बीजेपी विधायक सुरेन्द्र सिंह ने जले पर नमक छिड़कने का काम ज़रूर किया। उन्होंने कहा कि अच्छी बात है कि गांव वाले घर छोड़कर निकल रहे हैं। क्योंकि आपदा पर किसी का वश नहीं होता है। वहीं जिलाधिकारी ने कहा कि वह फ्लड एरिया है।

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com