राजस्थान : आतंक का दूसरा नाम आनंदपाल सिंह!

एसएचओ की बहादुरी से पकड़े गए आनंदपाल के साथी जिन पर था 1 लाख का इनाम – ऐसे बहादुर एसएचओ ओर भारतमाता के रक्षक को सलाम। कुछ होनहार पुलिस अफसर कुछ जवानों  की बहादुरी  से उसके एक  दाहिने हाथ को बढ़ने में जरूर अंकुश लगाया है ऐसे बहादुर अफसर ओर भारतमाता के रक्षक को सलाम। जैसा की पुलिस ने भी इस अपराधी के मार्ग में बाधा बनने में कोई कमी नही छोड़ी..जैसे आनंदपाल के साथ फरार हुए उसके साथी शुभाष बराल को सीकर के जांबाज सदर थाना थानाधिकारी मदनलाल कड़वासरा ने अपनी जान पर खेलकर दबोचा।
कंही राजनीतिक चर्चा तो कंही स्नरार्थियो  को बताया जा रहा है आनंदपाल का साथी पुलिस के हाथ आनंदपाल तो नही लेकिन उसके कई गुर्गे जरूर लगे है जिससे प्रदेश में अपराधों की मुहीम में बाधा जरूर आयी है
अपराधी आनंदपाल पिछले एक साल से फरार हैं। 3 सितम्बर 2015 के दिन ही आनंदपाल डीडवाना कोर्ट से पेशी से लौटते हुए फरार हुआ था। आज पांच राज्यों की पुलिस आनंदपाल को तलाश है। इस एक कुख्यात अपराधी ने ना केवल देश के सबसे बड़े राज्य के सरकारी तंत्र बल्कि आईपीएस की लम्बी फौज की काबिलियत का आयना दिखाया हैं।एक अपराधी जिसकी तलाश राजस्थान पुलिस, एमपी पुलिस और उत्तरप्रदेश पुलिस इन सभी को तलाश है। 3 सितंबर 2015 को डीडवाना कोर्ट में पेशी से लौटते वक्त परवतसर थाने से कुछ ही दूरी से फरार हो गया था। पुलिस अब तक आनंदपाल के करीब 50 से ज्यादा गुर्गों को दबोच चुकी है, इनमें बेहद करीबी गुर्गे भी शामिल हैं ।
कौन है आनंदपाल
आनंदपाल जसवंतगढ़ थाने के गांव सांवराद का रहने वाला है। फिरौती मांगने, धमकी देने व हत्या के अब तक 31 मुकदमे दर्ज हुए। 200 से ज्यादा गुर्गे। 2006 में डीडवाना में जीवनराम गोदारा हत्याकांड के दौरान आनंदपाल चर्चा में आया। फिर गैंगस्टर बन गया। 2012 में जयपुर के पास गिरफ्तारी हुई तो बुलेटप्रुफ जैकेट और एके 47 राइफलें मिली थीं। 3 सितंबर 2015 में पुलिस पर हमला कर भाग गया और अब तक फरार है। आनंदपाल के ऊपर 5 लाख रुपए का इनाम है। आनंदपाल की बेटी पहले से ही दुबई में रहती है। इससे एक आंशका पुलिस को है कि कही मोस्टवांटेड गैंग्स्टर एनकाउंटर के डर से भारत छोड़कर रफूचक्कर तो नही गया।
दरअसल आनंदपाल पुलिस पर फायरिंग करके फरार हुआ था। उसके बाद भी एक बार वह पुलिस की गिरफत में आ गया लेकिन फिर फायरिंग करके फरार हो गया। दोनो बार फायरिंग में दो पुलिसकर्मी मारे गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com