मलेशिया गए भारतीय युवक की मौत, मर्चेंट नेवी की ट्रेनिंग के लिए मलेशिया गया था युवक

यूपी के बुलंदशहर से मर्चेंट नेवी की ट्रेनिंग के लिए मलेशिया गए भारतीय युवक की मौत की ख़बर ने ना सिर्फ उसके परिवार में कोहराम मचा दिया, बल्कि मृतक के गांव में भी सन्नाटा पसर गया। दरअसल प्रशांत बीती 11 जून को मर्चेंट नेवी की ट्रेनिंग के लिए मलेशिया गया था। परिजनों के मुताबिक प्रशांत एजंट के द्वारा मलेशिया भेजा गया था। वहां से वो हर रोज़ अपने परिजनों से बात भी कर रहा था, लेकिन वीडयो कालिंग के दौरान प्रशांत के चहरे पर अजीब सा डर देखा जाता था। एजेंट प्रशांत के परिवार से लगातार और पैसे की मांग कर रहे थे, जिस मांग को प्रशांत के पिता पूरा भी कर रहे थे। प्रशांत के पिता बताते हैं कि आखिरी बार 26 जून को प्रशांत से उनकी बात हुई थी और इस दिन भी प्रशांत के पिता ने 50 हज़ार रुपए और प्रशांत के एजेंट को भेजे थे। उसके बाद प्रशांत का कॉल आना पूरी तरह बंद हो गया, जिसपर परिवार की तरफ प्रशांत के मलेशिया वाले नंबर पर कई कॉल किए गए लेकिन मलेशिया में फोन उठना ही बन्द हो चुका था। अंत मे मलेशिया से कॉल तो आया लेकिन उस एक कॉल ने, प्रशांत के हंसते खेलते इस परिवार से जैसे सारी खुशियां छीन ली। कॉलर ने खुद को प्रशांत को साथ ले जाने वाला एजेंट बताया और प्रशांत की मौत की खबर दी। परिवार को बताया गया कि 26 जून को प्रशांत को शिप से सुमद्र में उतारा गया और पानी में डूबने में उसकी मौत हो गई। इसके अलावा कई अलग तरह की भी खबरें मिली है। लेकिन अभी तक भी प्रशांत का परिवार ये नहीं समझ पाया है कि आखिर प्रशांत की मौत कैसे हुई। मृतक प्रशांत सिकन्द्राबाद ब्लॉक के लाठौर गांव का रहने वाला था। प्रशांत का परिवार ने पानी में डूबोकर प्रशांत की हत्या किए जाने की आशंका जताई है। मृतक के परिवार ने सरकार से उनके बेटे के शव को भारत लाने की अपील की है ताकि वे अपने बेटे के अंतिम दर्शन कर रीति-रिवाज से उसका अंतिम संस्कार कर सके। वही बुलंदशहर जिला प्रशासन के मुताबिक शव को भारत लाने के प्रयास शुरु किए जा चुके है और पीडित परिवार को हर संभव मदद का भी आश्वासन दिया है।

 

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com