क़ातिल पुल !! वाराणसी फ्लाईओवर हादसा,कम से कम 18 लोगों की मौत

बात करते हैं वाराणसी में मंगलवार को हुए हृदय विदारक हादसे की… जब पूरे देश की नज़र कर्नाटक पर लगी हुई थी…हर कोई कर्नाटक के चुनावी नतीजों पर बहस कर रहा था…सियासी दल जोड़-तोड़ कर सरकार बनाने के गुणा-भाग में लगे हुए थे। इसी दौरान एक बड़ा हादसा धीरे-धीरे बनारस की ओर बढ़ रहा था। कैंट रेलवे स्टेशन के पास महीनों से बन रहा ओवरब्रिज का एक बड़ा हिस्सा मंगलवार शाम को अचानक जमीन पर आ गिरा। ओवर ब्रिज का हिस्सा जमीन पर गिरते ही नीचे मौजूद लगभग 50 लोग इसके मलबे में दब गए। हादसे में कम से कम 18 लोगों के मारे जाने की बात कही जा रही है। वहीं घायलों के बारे में अलग-अलग जानकारी सामने आ रही है। ओवरब्रिज का पिलर गिरने के बाद चीख पुकार मच गई और अफरातफरी की स्थिति मौके पर बन गई। भीड़-भाड़ वाले क्षेत्र में हुये इस हादसे में आधा दर्जन से ज्यादा गाड़ियां भी नीचे दब गई। इस दौरान भागदौड़ और जान बचाने की कोशिश में कई लोग गिरकर घायल हो गए। अचानक हुए इस हादसे में भगदड़ मचने के बाद मौके पर पुलिस कर्मियों ने मोर्चा संभाला और लोगों को सुरक्षित निकालने के प्रयास में जुट गए। हादसे की गंभीरता को देखते हुए स्थानीय नागरिक भी सहयोग के लिए आगे आए और ओवरब्रिज गिरने के बाद नीचे फंसे वाहन और उसमें मौजूद लोगों को बचाने की कोशिश करने लगे। राहत बचाव कार्य में सहयोग के लिए एनडीआरएफ और एसडीआएफ की टीमों को भी बुला लिया गया। हालांकि अब बचाव कार्य समाप्त हो चुका है। गिरा हुआ फ्लाईओवर गाड़ियों पर से हटा लिया गया है। हादसे की जांच के लिएसदस्यीय उच्च स्तरीय समिति गठित कर दी गई हैपिलर के नीचे दबी गाड़ियों में से 3 लोगों को जिंदा बचा लिया गया, जबकि 10 घायलों को अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा।  हादसे में छह गाड़ियां क्षतिग्रस्त हुई हैं। लेकिन सरकारी स्तर पर अब तक मृतकों की निश्चित संख्या का पता नहीं चल सका है। हादसे में घायल 10 लोगों को कबीरचौरा हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया, जिसमें से 6 लोगों की मौत हो गई. कबीरचौरा हॉस्पिटल के CMO ने बताया कि चार अन्य घायलों की हालत गंभीर थी, जिसमें से एक घायल की हालत ज्यादा बिगड़ने पर उसे BHU ट्रॉमा सेंटर रेफर कर दिया गया। पिलर के नीचे दबे वाहनों में फंसे घायलों को निकालने के लिए NDRF की 7 टीमें लगाई गईं और करीब 325 राहतकर्मियों ने बचाव कार्य पूरा किया।

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com