नाजिया के खिलाफ मुकदमा दर्ज किए जाने के आदेश,अब तक 40 से अधिक पुरस्कारों से हो चुकी है सम्मानित

अपने साहस और हिम्मत के दम पर किडनैपर्स, ड्रग माफिया और जुआरियों को खदेड़ने वाली आगरा की बहादुर बेटी नाजिया के खिलाफ कोर्ट ने मुकदमा दर्ज करने के आदेश दिए हैं।

अधिवक्ता कृपाल सिहं की अपील पर एसीजीएम तृतीय की कोर्ट ने नाजिया के खिलाफ धारा 156(3) के तहत मुकदमा दर्ज किए जाने के आदेश दिये। IPC 153(a), 323, 384, 504, 506 के साथ कई अन्य धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किए जाने के आदेश दिए गए हैं। नाजिया के खिलाफ धार्मिक उन्माद, बलवा और मारपीट जैसी धाराओं में मुकदमा दर्ज किए गए हैं। मामला 20 अप्रैल का है। नाजिया को अपनी जमीन पर आगरा के ताजगंज इलाके में अपनी जमीन पर अवैध कब्जे की जानकारी मिल तो वो अपनी जमीन के पास पहुंची थी। इसी दौरान वकील कृपाल सिंह और उनके परिजनों के साथ नाजिया की जमकर मारपीट ही थी। इस जगह के मालिकाना हक को लेकर विवाद चल रहा है। नाजिया का कहना था कि उसकी जमीन पर कब्जा करने वाले भूमाफिया ने उसे और उसके भाई को लोहे की रॉड से बुरी तरह से पीटा था। इसी मामले में वकील कृपाल सिंह ने नाजिया के खिलाफ अदालत में वाद दायर कर ऱखा था। जिसके बाद अदालत ने नाजिया के खिलाफ मामला दर्ज करने के आदेश दिए। वकील कृपाल सिंह के खिलाफ इस मामले में पहले ही मुकदमा दर्ज हो चुका है। आपको बता दे कि नाजिया उस वक्त सुर्खियो में आई थी जब उसने जान की परवाह नही करते हुए छह साल की एक बच्ची को किडनैपर्स के चंगुल में जाने से बचाया था। इसके बाद नाजिया ने अपने मोहल्ले में सट्टे और जुए के कारोबार को भी बंद करवाया था। नाजिया को पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने नाजिया को 'रानी लक्ष्मीबाई वीरता पुरस्कार' से नवाजा था। इसके बाद 8 मार्च 2016 को अक्षय कुमार ने  ने एक चैनल के कार्यक्रम में सम्मानित किया था। योगी सरकार की ओर से भी बहादुरी के लिए नाजिया को पुरस्कृत किया गया था। जिया को राष्ट्रपति की ओर से जीवन रक्षा पदक 2016, प्रधानमंत्री की ओर से राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार 2017 पुरस्कार समेत 40 से अधिक पुरस्कार मिल चुके हैं। यही नहीं, यूपी पुलिस ने इसी साल नाजिया को आगरा का विशेष पुलिस अधिकारी नियुक्त किया।

 

WATCH VIDEO // https://youtu.be/U9ZQw4ca_m0

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com