पेमा खांडू होंगे अरुणाचल प्रदेश के नए मुख्यमंत्री, तुकी ने दिया इस्तीफा

अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री नाबाम तुकी के इस्तीफे के बाद पूर्व मुख्यमंत्री दोर्जी खांडू के बेटे व कांग्रेस विधायक पेमा खांडू प्रदेश के नए मुख्यमंत्री होंगे। तुकी और खांडू ने शनिवार को राज्यपाल तथागत रॉय से मुलाकात की। तुकी ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा सौंप दिया। राजभवन के प्रवक्ता अतुम पोतोम ने बताया कि राज्यपाल ने उनका इस्तीफा मंजूर कर लिया है।

इससे पहले, तुकी ने कांग्रेस विधायक दल (सीएलपी) के नेता पद से इस्तीफा दे दिया, जिसके बाद खांडू के निर्वाचन का रास्ता साफ हो गया। तुकी की सरकार बुधवार को सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद बहाल की गई थी। कांग्रेस विधायक दल की शनिवार को हुई बैठक में तुकी ने खांडू के नाम का प्रस्ताव रखा, जिसे पार्टी के सभी 44 विधायकों का समर्थन मिला। इनमें कांग्रेस के 15 और पार्टी के 29 असंतुष्ट विधायक भी शामिल हैं, जो फरवरी में पीपुल्स पार्टी ऑफ अरुणाचल (पीपीए) से जुड़ गए थे।

इन 44 विधायकों में पूर्व मुख्यमंत्री कालिखो पुल भी शामिल हैं, जिन्होंने फरवरी में तुकी को सत्ता से बेदखल कर दिया था और स्वयं मुख्यमंत्री बने थे। तुकी ने राजभवन से निकलने के बाद कहा कि यह अरुणाचल प्रदेश में कांग्रेस की बड़ी जीत है। उन्होंने ये भी कहा कि हाल में जो भी राजनीतिक संकट उत्पन्न हुआ, वह भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की देन थी। लेकिन सारे पैंतरे धरे के धरे रह गए, क्योंकि कांग्रेस अपना किला बचाने में कामयाब रही। मुझे उम्मीद है कि बीजेपी को इससे बड़ी सीख मिलेगी।

खांडू ने कहा कि तुकी ने अपना इस्तीफा सौंप दिया है और मैंने राज्यापाल को उन 44 विधायकों की सूची सौंप दी है, जो मेरा मुख्यमंत्री के रूप में समर्थन कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि राज्यपाल ने कहा कि वह औपचारिकताएं पूरी करेंगे और हमें अगले कदम के बारे में बताएंगे। दिल्ली के हिंदू कॉलेज से स्नातक खांडू विमान दुर्घटना में अपने पिता की मौत के बाद साल 2011 में तुकी की सरकार में मंत्री बने थे।

बाद में उन्हें पर्यटन व जल संसाधन विकास विभाग का प्रभार सौंपा गया था। उन्होंने हालांकि साल 2014 में मंत्रीपद से इस्तीफा दे दिया था। उनके शपथ ग्रहण समारोह के बारे में पूछे जाने पर खांडू ने कहा कि वह राज्यपाल से प्रतिक्रिया मिलने का इंतजार कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि मुझे उम्मीद है कि शपथ ग्रहण समारोह एक या दो दिन में होगा। कांग्रेस में शनिवार को पीपीए के 30 विधायकों की वापसी के बाद पार्टी के सदस्यों की संख्या 45 हो गई है, जिनमें विधानसभा अध्यक्ष नबाम रेबिया भी शामिल हैं।

अरुणाचल प्रदेश में इस वक्त कांग्रेस सदस्यों की कुल संख्या 58 है और ऐसे में शक्ति परीक्षण में कांग्रेस की जीत आसान मानी जा रही है। राज्यपाल तथागत रॉय ने तुकी सरकार बहाल करते हुए उनसे बहुमत साबित करने के लिए कहा था। तुकी ने राज्यपाल से विधानसभा का सत्र 10 दिनों के लिए स्थगित करने का आग्रह किया था, लेकिन रॉय ने इससे इनकार कर दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com