बिजली ‘आने’ से दहशत. . .डर गये बच्चे . . .घरों से बाहर निकले लोग!!!

बरेली में कल पूरी रात बिजली आने से दहशत फैल गयी और लोग अपने-अपने घरों से बाहर निकल आये। किसी अनहोनी की आशंका के चलते लोगों ने पूरी रात जागकर काटी। छोटे-छोटे बच्चे आधी रात को अचानक इतनी रोशनी देखकर डर गये और अपनी माओं की गोद में दुबक गये।

शहर में आम तौर पर तीन घंटे के लिये बिजली आती है और तीन घंटे के लिये जाती है। कल रात जब तीन घंटे के बाद भी बिजली नहीं गयी तो लोगों ने सोचा कि बिजली काटने वाला शायद पेशाब-वेसाब करने चला गया होगा, दो-चार मिनट में चली जायेगी। लेकिन जब बिजली आये तीन घंटे से भी ज़्यादा हो गये तो लोगों को डर लगने लगा।

शहर के एक परिवार ने घर की सारी बत्तियां बुझा दी और लालटेन जला कर रात काटी।

इतनी भारी मात्रा में आयी बिजली की वजह से शहर में तरह-तरह की अफ़वाहें चलती रहीं। कुछ लोगों का कहना था कि शहर में ज़रूर कोई बड़ा भूकंप आने वाला है क्योंकि भूकंप से पहले इसी तरह की अजीबो-गरीब घटनाएं होती हैं।

इसके उलट पवन विहार में रहने वाले वीरू का कहना था कि “शायद सरकार को तरस आ गया और उसी ने हमें इतनी बिजली दे दी।”
और वही बदायूं में रहने वाले राहुल का कहना है की कल रात जो तूफान आया है उसी तूफान से बदायूं की लाइट उड़ कर बरेली में आ गई है!

बिजली से डरकर अपने घर के बाहर राजू यह सुनते ही बोल पड़ा, “क्या बात कर रहे हो भाईसाब! सरकार अभी से इतनी बिजली क्यों देने लगी! चुनाव तो अभी एक साल दूर हैं।”

समाजवादी पार्टी के समर्थक इसे बीजेपी की चाल बता रहे हैं। सपा के महानगर अध्यक्ष …………… का कहना है कि “बीजेपी के कुछ लोगों ने बिजली वालों के हाथ-पैर बांध दिये और उन्हें बिजली नहीं काटने दी, ताकि शहर का माहौल ख़राब हो जाये।”

वहीं, बीजेपी ने पलटवार करते हुए कहा है कि “राज्य के एक शहर में पूरी रात बिजली आती रही और पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठी रही। जो सरकार लोगों को बिजली से ना बचा सके, उसे एक दिन भी सत्ता में रहने का हक़ नहीं है।”

इस बीच, सरकार ने पांच बिजलीघरों के जेई और लाइनमैनों को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड कर दिया है। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ख़ुद इस ख़बर को सुनकर सदमे में हैं। उन्हें यक़ीन नहीं हो रहा कि लखनऊ और सैफ़ई के अलावा कहीं और इतनी बिजली कैसे आ सकती है

IMG-20160606-WA0105

डॉ लिटिल गुप्ता की तिरछी कलम से

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com