मोदी और सीएम योगी की मूर्ति को लेकर राजभर का बयान

यूपी में बीजेपी के सभी दफ्तरों में पीएम मोदी और सीएम योगी की मूर्तियां लगाए जाने के फैसले के बाद बीजेपी विपक्षियों  के साथ-साथ सरकार में शामिल सहयोगी पार्टियों के भी निशाने पर आ गई है। योगी सरकार के कैबिनेट मंत्री और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर ने इस फैसले पर सवाल उठाते हुए पूछा है कि आखिर इन मूर्तियों के लगने गरीब-परेशान और अशिक्षित आम जनता को क्या हासिल होगा। उन्होंने इशारों में यह भी कहा है कि बीजपी नेताओं को अगर अपनी ही मूर्तियां लगवानी थीं, तो वह मायावती की मूर्तियों का विरोध क्यों करते थे। राजभर ने गुरुवार को इलाहाबाद में कहा कि राजभर ने कहा है कि जो समाज या संगठन अपने इतिहास से सबक नहीं लेता और अपने बुजुर्गों की कद्र कर उन्हें उचित सम्मान नहीं देता, वह ज़्यादा दिनों तक आगे नहीं बढ़ सकता। राजभर के अनुसार  मूर्तियां लगाने से ज़्यादा ज़रूरी गरीबों के लिए भरपेट खाने का इंतजाम करने,  उसके लिए घर बनवाने, इलाज और साफ़-सफाई का इंतजाम करना है। क्योंकि मूर्तियों से यह ज़रुरत पूरी नहीं हो सकती हैं। ये पहली बार नहीं है जब राजभर ने बीजेपी खासकर सीएम योगी पर निशाना साधा है। हालांकि मूर्ति लगाने की आलोचना करने के बाद भी राजभर ने कहा कि वैचारिक मतभेदों के बावजूद वह न सिर्फ अगला लोकसभा चुनाव बल्कि 2024 में भी बीजेपी के साथ बने रहेंगे. उन्होंने कहा कि लोग उनको लेकर भले ही कुछ भी सोचें, लेकिन यह तय है कि वह बीजेपी का साथ छोड़ने नहीं जा रहे हैं और अगले कई चुनावों तक बीजेपी के साथ बने रहेंगे।

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com