प्रदर्शन रैली से घर लौट रहे दलितों पर उना में हमला

गुजरात के गिर सोमनाथ जिले के उना शहर में एक प्रदर्शन रैली से घर लौट रहे 20 दलितों के एक समूह पर समतर गांव के पास भीड़ ने हमला कर दिया, जिसमें आठ दलित गंभीर रूप से घायल हो गए। घटना सोमवार शाम करीब पांच बजे हुई। पुलिस ने भीड़ को भगाने के लिए आंसू गैस के गोले दागे और हल्का लाठी चार्ज भी किया। हालांकि पीड़ितों का दावा है कि पुलिस ने उनकी ‘‘मदद के लिए कुछ नहीं किय।’’ पीड़ितों का दावा है कि हमलावर समतर गांव के निवासी हैं। वे लोग पिछले महीने उना में दलितों की पिटाई करने की घटना को लेकर गिरफ्तार हुए 12 लोगों का ‘‘बदला’’ लेना चाहते थे।

आज की घटना के 20 पीड़ित भावनगर जिले के हैं और वे साइकिल तथा बाइक से अन्य लोगों के साथ उना गए थे। ये लोग जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार की उपस्थिति में रोधिका वेमुला और बालु सरवैया द्वारा राष्ट्रीय ध्वज फहराने के कार्यक्रम में शामिल होने गए थे। राधिका वेमुला, हैदराबाद केन्द्रीय विश्वविद्यालय में आत्महत्या करने वाले दलित छात्र की मां हैं जबकि बालु उना में पिटाई झेलने वाले दलितों में से एक के पिता हैं। भीड़ ने उना-भावनगर रोउ पर उन्हें समतर के पास रोका और उनकी पिटाई की। यह जगह मोटा समधिया गांव से ज्यादा दूर नहीं है, जहां पिछले महीने गौ-रक्षकों ने सात दलितों की बुरी तरह पिटाई की थी। गिर सोमनाथ पुलिस नियंत्रण कक्ष के एक अधिकारी ने कहा कि समतर में आज शाम पुलिस ने हिंसक भीड़ को भगाने के लिए आंसू गैस के गोले दागे। जब उन्होंने भागने से इनकार कर दिया, तो लाठी चार्ज भी किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com