रूसी राष्ट्रपति पुतिन गुरुवार से दो दिवसीय भारत दौरे पर, पढ़े S-400 मिसाइल के अलावा किस विषय में होगी बातचीत

रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन गुरुवार को भारत दो दिन के दौरे पर आ रहे हैं. इस दौरान रूस के साथ सामरिक लिहाज से बेहद अहम एस-400 वायु प्रतिरक्षा प्रणाली सौदे पर समझौते के अलावा दोनों देशों के बीच रणनीतिक संबंधों की मजबूती को लेकर अहम बातचीत होगी। अमेरिका इस डील के खिलाफ है क्योंकि वह चाहता है कि भारत S-400 की जगह उसका बनाया थाड (THAAD-टर्मिनल हाई ऑल्टिट्यूड एरिया डिफेंस) सिस्टम खरीदे. भारत पर वह लगातार दबाव भी बनाता रहा है 
पुतिन के शीर्ष विदेश नीति सलाहकार युरी उशाकोव ने कहा कि राष्ट्रपति चार अक्टूबर को भारत रवाना हो रहे हैं और इस दौरान एस-400 वायु रक्षा प्रणाली की आपूर्ति के लिए समझौते पर जोर होगा. इस खरीद से अमेरिका के काउंटरिंग अमेरिका एडवर्सरीज थ्रू सैंक्शन एक्ट (सीएएटीएसए) का उल्लंघन होगा. हालांकि इससे छूट मिलने की संभावना है. 
थाड जहां 3 हजार मीटर प्रति सेकेंड की गति से आते खतरों को भेद सकता है, तो S-400 4,800 मीटर प्रति सेकेंड वाले टारगेट को आसानी से तबाह कर सकता है. S-400 ट्रंफ मिसाइल एक साथ 100 हवाई खतरों को भांप सकता है और अमेरिका निर्मित एफ-35 जैसे 6 लड़ाकू विमानों को एक साथ दाग सकता है
S-400 लगभग 400 किमी के दायरे में किसी भी विमान, मिसाइल और ड्रोन को नष्ट कर सकता है. इसकी मारक क्षमता अचूक है क्योंकि यह एक साथ तीन दिशाओं में मिसाइल दाग सकता है. जबकि अमेरिकी थाड ऐसा एंटी मिसाइल सिस्टम है जो खतरे को भेदने से ज्यादा अपने लड़ाकू विमानों की सुरक्षा में ज्यादा प्रयोग होता है.
विदेश मंत्रालय के अनुसार रूसी राष्ट्रपति बृहस्पतिवार को यहां पहुंचेंगे और शाम को प्रधानमंत्री से मुलाकात करेंगे. मोदी एवं पुतिन शुक्रवार को भारत रूस शिखर वार्ता करेंगे. इसके बाद समझौतों का आदान-प्रदान होगा. इसके बाद दोनों नेता प्रेस वक्तव्य देंगे. मंत्रालय के अनुसार शुक्रवार को ही पुतिन राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात करेंगे. पुतिन प्रतिभाशाली बच्चों के समूह से परिसंवाद भी करेंगे और भारत-रूस व्यापार बैठक को संबोधित भी करेंगे.

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com