अलगाववादी संगठन दुख्तरान-ए-मिल्लत की प्रमुख आसिया आंद्राबी को गिरफ्तारी के बाद दिल्ली ले जाने से बौखलाए अलगाववादी नेता

कश्मीर में अलगाववादी संगठन दुख्तरान-ए-मिल्लत की प्रमुख आसिया आंद्राबी को गिरफ्तारी के बाद दिल्ली ले जाने से बौखलाए अलगाववादी नेताओं ने घाटी में बंद का आह्वान किया है। बताया जा रहा है कि आसिया आंद्राबी को शुक्रवार को राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) द्वारा आसिया और उसके दो अन्य सहयोगियों को श्रीनगर से दिल्ली शिफ्ट किया गया है। आसिया को राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने उसके दो साथियों के साथ शुक्रवार दोपहर श्रीनगर सेंट्रल जेल से दिल्ली में शिफ्ट कर दिया। बताया जा रहा है कि राजद्रोह से जुड़े एक मुकदमे के सिलसिले में तीनों आरोपियों को दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया जाएगा। एनआईए की इस कार्रवाई के विरोध में अलगाववादी संगठनों ने शनिवार को घाटी में बंद का ऐलान किया है। बताया जा रहा है कि अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी, मीरवाइज उमर फारुक ओर से यासिन मलिक की ओर से संयुक्त रूप से कश्मीर के सभी जिलों में बंद का ऐलान किया गया है। इस घोषणा के बाद एजेंसियों की ओर से घाटी में अतिरिक्त सुरक्षाबलों की तैनाती की गई है। साथ ही 8 जुलाई को हिज्बुल मुजाहिदीन के पूर्व कमांडर बुरहान वानी की बरसी के मद्देनजर अतिरिक्त सतर्कता बरती जा रही है। बुरहान वानी की मौत की दूसरी बरसी पर जॉइंट रेजिडेंट लीडरशिप यानि जेआरएल की अध्यक्षता करनेवाले सैयद अली शाह गिलानी, मीरवाइज उमर और यासीन मलिक ने रविवार को कश्मीर घाटी में बंद का आह्वान किया है। अलगाववादियों के बंद के मद्देनज़र हुर्रियत नेता मीरवाइज उमर फारूक को उनके निगीन स्थित आवास में नज़रबंद कर दिया गया। जम्मू कश्मीर लिबरेशन फ्रंट यानी जेकेएलफ के नेता यासीन मलिक को भी नजरबंद कर दिया गया है और पुलिस थाने भेज दिया गया है। आपको बता दें वानी को 8 जुलाई 2016 को अनंतनाग में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ के दौरान मार गिराया गया था।

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com