जान बचाने के लिए घुसे थे कमरे में, जहां दम घुटने से हो गई छह लोगों की मौत

आजमगढ़ में एक धार्मिक कार्यक्रम के दौरान उत्साह का माहौल उस वक्त गम में बदल गया…जब कार्यक्रम के बाद भंडारे के दौरान गैस सिलेंडर में आग लगने से अफरा-तफरी मच गई। आग से जान बचाने के लिए कुछ लोग पास के बने एक कमरे में घुस गए, जहां पर दम घुटने से छह लोगों की मौत हो गई। मरने वालों में दो बच्चे और चार महिलाएं है। दरअसल आजमगढ़ के रानी की सराय थाना क्षेत्र के कोटवा गांव के चकगंगाली पुरवा की हरिजन बस्ती में महेन्द्र राम के घर सत्संग का आयोजन किया गय़ा था। सत्संग के बाद भंडारे का भी कार्यक्रम था। भंडारा तैयार करते वक्त गैस पाइप लीकेज होने की वजह से सिलिंडर फट गया, जिसकी वजह से पास में रखे भूसे के ढेर में आग लग गई। आग लगने के कारण वहां भगदड़ मच गई। पास में मौजूद महिलाए और बच्चे जान बचा कर भागने लगे। उधर, कुछ महिलाओं ने जान बचाने के लिए बच्चों समेत खुद को कमरे में बंद कर लिया। लेकिन थोड़ी ही देर में कमरा धुएं से भर गया। जब तक आग पर काबू पाया जाता और कमरे में बंद महिलाओं और बच्चों को बाहर निकाला जाता तब दम घुटने से छह लोगों की मौत हो चुकी थी। आनन-फानन में जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। मृतकों में रामताजी, कविता, मनिता, तारादेवी, 4 साल की अंजली और 1 साल की मासूम आर्या शामिल है। जबकि प्रियंका गंभीर रूप से जिला अस्पताल में भर्ती है। घटना के बाद से गांव में कोहराम मच गया।

WATCH VIDEO // https://youtu.be/tj_x8yLUlNY

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com