15 करोड़ रुपये जमा करें यूनिटेक : सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने रियल एस्टेट फर्म यूनिटेक को कोर्ट रजिस्ट्री में 15 करोड़ रुपये जमा करने का आदेश दिया है ये आदेश  कंपनी के प्रोजेक्ट्स में हो रही देरी के मामले में अदालत में दिया गया है।  यह रकम यूनिटेक के गुड़गांव के हाउसिंग प्रोजेक्ट्स यूनिटेक विस्टाज और नोएडा के एक और प्रोजेक्ट में 38 खरीदारों की तरफ से कंपनी को दी गई राशि के बराबर है। बिल्डर को 5 करोड़ जमा करने के लिए दो हफ्ते का वक्त दिया गया है और 30 सितंबर तक बाकी रकम का भुगतान करने को कहा गया है।

अदालत ने  दुख जताते हुए कहा की कई निवेशकों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि मूलधन के ब्याज पर बाद में सुनवाई की जाएगी। मामले की अगली सुनवाई 4 अक्टूबर को होगी। इस बीच, यूनिटेक ने एक बयान में कहा कि सुप्रीम कोर्ट कंपनी की उस अपील पर सुनवाई करने पर सहमत हो गया है, जिसमें एनसीडीआरसी ने प्रोजेक्ट की डिलीवरी में देरी पर मुआवजे के तौर पर ब्याज देने का ऑर्डर दिया है।
बयान के मुताबिक, ‘यूनिटेक के वकील ने दलील दी कि कंज्यूमर के लिए ज्यादा से ज्यादा संबंधित पीरियड के लिए रेंट के नुकसान का मामला बनता है। सुप्रीम कोर्ट ने यूनिट को अदालत में मूलधन जमा करने को कहा है और मामले की अगली सुनवाई अक्टूबर 2016 में होगी।’ बिल्डर का कहना था कि उसे सुप्रीम कोर्ट के ऑर्डर से राहत मिली है और अदालत ने मेरिट के आधार पर सभी मसलों पर विचार किया है। यूनिटेक विस्टाज के 30 खरीदारों की नुमाइंदगी कर रहे वकील जयंत भूषण ने बताया, ‘हम रिफंड चाहते थे, इसलिए सुप्रीम कोर्ट ने यूनिटेक को मूलधन लौटाने को कहा है।’

कंपनी के नोएडा स्थित एक और प्रोजेक्ट से जुड़े खरीदारों की वकील ऐश्वर्या सिन्हा ने कहा कि यह ऑर्डर सुप्रीम कोर्ट के पिछले आदेश का ही विस्तार है, जिसमें अदालत ने यूनिटेक बरगंडी के मामले में कंपनी को कोर्ट रजिस्ट्री को 5 करोड़ जमा करने का निर्देश दिया था। कंपनी ने इस निर्देश का पालन भी किया था। इससे पहले 12 अगस्त को पिछली सुनवाई में अदालत ने यूनिटेक के प्रोजेक्ट्स में देरी पर खरीदारों के वकीलों से उन लोगों की लिस्ट सौंपने को कहा था, जो बिल्डर से पेनाल्टी के साथ रिफंड की मांग कर रहे हैं और जो पेनाल्टी के साथ फ्लैट का कब्जा चाहते हैं। इसके बाद यह लिस्ट सौंपी गई।

उस सुनवाई में यूनिटेक के वकील ने अदालत को बताया था कि खरीदारों का पैसा लौटाने के लिए कंपनी के पास पैसा नहीं है। अगर उसके पास पैसा होता, तो वह सही समय पर प्रोजेक्ट पूरा कर देती। मंगलवार को यूनिटेक के शेयर 16.91 फीसदी की गिरावट के साथ बंद होने के बाद कंपनी ने कहा कि उसके वकीलों की तरफ से अदालत के सामने दिए गए बयानों को गलत तरीके से पेश किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com