गरीब सुरज की पुकार, मेरी मां को बचा लो सरकार: बस्ती यूपी

गरीबी व मुफलिसी के कारण आठ साल पहले इलाज के अभाव में पिता का
साया सिर से छिन गया। पिता की मौत के बाद बीमार मां के साथ एक छोटे भाई व तीन बहनों का बोझ कंधे पर आया, तो भी उसने हार नहीं मानी। पढ़ाई की उम्र में उसने परिवार चलाने के लिए बिस्कुट फैक्ट्री में दिहाड़ी मजदूरी शुरू कर दी। वक्त ने उसकी जिंदगी को एक बार फिर झकझोर दिया, मां की बीमारी बढ़ गई और गले का ट्यूमर बड़ा होकर फट गया है। रक्तस्त्राव होने से मां की हालत नाजुक है। पिता के बाद मां के सिर पर मौत का साया मंडराने लगा, तो उसने लोगों की मदद से उसे जिला चिकित्सालय के बाद गोरखपुर तक पहुंचा दिया। उसकी गरीबी यहां भी आड़े आ गई। धनाभाव के चलते इलाज नहीं हो पा रहा है। यह किसी फिल्म की कहानी नहीं बल्कि मुण्डेरवा थाना क्षेत्र के बोदवल गांव के 17 वर्षीय सूरज की है। बचपन से गरीबी झेल कर परिवार को मुकाम देने के लिए जद्दोजहद कर रहे सूरज की मां दर्द से तड़प रही है, मगर बेटा कुछ कर पाने में असमर्थ है। उसे इस समय मदद की दरकार है, मगर इस गरीब की मदद को कौन आगे आएगा? वह मददगार की राह निहार रहा है, जबकि मां अंतिम सांसे गिन रही है। मुंडेरवा से एक किलोमीटर दक्षिण स्थित बोदवल गांव निवासी सूर कर दिया। यहां भी उसे निराशा ही हाथ लगी इलाज की सुविधा न होने के कारण उसे गोरखपुर मेडिकल कालेज रेफर कर दिया गया। गरीब सूरज पैसे को लेकर परेशान था, मगर बोदवल के कुछ उत्साही लोगो ने पांच हजार रुपये चंदा एकत्र किया। सूरज अपनी मां को मेडिकल कालेज गोरखपुर लेकर गया जहां रात भर दर्द से राधिका तड़पती रही, सुबह चिकित्सकों ने उसे लखनऊ मेडिकल कालेज रेफर कर दिया हैरज विश्वकर्मा की मां की तबीयत बेहद खराब है। जानकारी होने पर गांव कुछ लोग मदद के लिए आगे आये और उन्होने सरकारी एंबुलेंस से उसे सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र मुंडेरवा भेजा जहां बीमार सूरज की मां राधिका की गंभीर हालत देख चिकित्सकों ने जिला चिकित्सालय बस्ती रेफ। सूरज के लिए अब यह तय कर पाना मुश्किल हो गया है कि वह मां का इलाज कराए या फिर भाई बहनों का पेट चलाए। दर्द की यह दास्तां सुनने वाला कहां है? इसका इंतजार सूरज का कुनबा कर रहा है।

अपील………………. अगर कोई भी सुरज की मदद करना चाहता है तो वह
सुरज के मोबाईल 7388743965 पर संपर्क कर सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com