पूर्व प्रधानमंत्री वाजपेयी की हालत में हुआ सुधार, इंफेक्शन खत्म होने तक उन्हें रखा जायेगा अस्पताल में

पूरे देश की नज़रें एकाएक नई दिल्ली के एम्स अस्पताल पर रुक गईं . देश के पूर्व प्रधानमंत्री और बीजेपी के वरिष्ठतम नेता अटल बिहारी वाजपेयी को सोमवार दोपहर एम्स में भर्ती कराया गया. कहा गया कि ऐसा सिर्फ रुटीन चेकअप के लिए किया गया है, लेकिन बाद में उन्हें पूरी रात वहां पर रखा गया.

पूर्व प्रधानमंत्री वाजपेयी को यूरिन इन्फेक्शन और किडनी संबंधी परेशानी के चलते एम्स में भर्ती किया गया है मंगलवार को एम्स द्वारा जारी मेडिकल बुलेटिन में कहा गया है कि पूर्व पीएम पर दवाओं का असर हो रहा है और इंफेक्शन खत्म होने तक उन्हें अस्पताल में ही रखा जाएगा। उधर, पूर्व पीएम के ठीक होने कि लिए देशभर में दुआओं का दौर जारी है। 

बताया जा रहा था कि लंबे समय से बीमार चल रहे वाजपेयी को नियमित जांच और परीक्षण के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है. उनकी हालत स्थिर बनी हुई है. अस्पताल की ओर से जारी बयान के अनुसार, एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया के नेतृत्व में डॉक्टरों की एक टीम 93 वर्षीय नेता के स्वास्थ्य संबंधी परीक्षण कर रही है.

वहीं, एम्स में वाजपेयी का हालचाल जानने के बाद केंद्रीय मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन ने पत्रकारों को बताया, की वह ठीक हैं और चिंता करने की जरूरत नहीं है।' हालांकि इससे पहले एम्स अस्पताल की ओर से बताया गया था कि पूर्व प्रधानमंत्री को नियमित जांच के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उनकी हालत स्थिर बनी हुई है। और उनको आईसीयू में रखा गया हैं और उनका डायलिसिस चल रहा है।’ अस्पताल की ओर से जारी बयान के अनुसार एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया के नेतृत्व में डॉक्टरों की एक टीम 93 वर्षीय नेता के स्वास्थ्य की जांच कर रही है। 
 

सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी वाजपेयी के स्वास्थ्य की जानकारी लेने एम्स पहुंचे. आधिकारिक बयान के अनुसार, मोदी ने डॉक्टरों से भेंट कर वाजपेयी के स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ली. मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री के परिवार के सदस्यों से भी भेंट की.  प्रधानमंत्री करीब 50 मिनट तक अस्पताल में ही रहे ।

भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी, गृहमंत्री राजनाथ सिंह, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, स्वास्थ्य मंत्री जयप्रकाश नड्डा और पर्यावरण मंत्री हर्षवर्द्धन भी अटल जी को देखने पहुंचने वालों में शामिल रहे.

बीजेपी की ओर से कहा गया कि वाजपेयी के इलाज को लेकर अमित शाह ने डॉक्टरों से लंबी बातचीत की. वह अस्पताल में पूर्व प्रधानमंत्री के परिजनों से भी मिले. केंद्रीय मंत्री विजय गोयल ने कहा कि वाजपेयी का यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन का इलाज चल रहा है और आशा है कि कल उन्हें छुट्टी मिल जाएगी.

गौरतलब है कि वाजपेयी 1998 से 2004 तक देश के प्रधानमंत्री थे. उनका स्वास्थ्य खराब होने के साथ ही धीरे -धीरे वह सार्वजनिक जीवन से दूर होते चले गए और कई साल से अपने आवास तक सीमित हैं. डॉक्टर गुलेरिया पिछले तीन दशकों से पूर्व पीएम वाजपेयी के निजी डॉक्टर हैं। गौरतलब है कि बीजेपी के संस्थापकों में शामिल वाजपेयी 3 बार देश के प्रधानमंत्री रहे। वह पहले ऐसे गैर-कांग्रेसी प्रधानमंत्री रहे हैं जिन्होंने अपना कार्यकाल पूरा किया। उन्हें देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित किया जा चुका है। 

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com