चुनाव खत्म होते ही जनता को लगा झटका, लगातार चौथे दिन भी बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम

देश में डीजल की कीमतें पहले ही रिकॉर्ड स्तर तक पहुंच गई हैं और गुरुवार को लगातार चौथे दिन दाम बढ़ने के बाद अब पेट्रोल भी रिकॉर्ड तोड़ने के करीब पहुंच गया है। तेल कंपनियों ने गुरुवार को एक बार फिर से पेट्रोल और डीजल के दाम बढ़ाने की घोषणा कर दी है।

कर्नाटक विधानसभा चुनाव में 12  मई के बाद से पेट्रोल-डीजल के दाम लगातार बढ़ रहे हैं। सोमवार को भी जहां दिल्ली में पेट्रोल 17 और डीजल 21 पैसे महंगा रहा। इस बढ़ोतरी के बाद राजधानी दिल्ली में अब बढ़कर 75.32 रुपए प्रति लीटर हो गया है, दिल्ली में करीब 56 महीने पहले पेट्रोल की कीमतों ने रिकॉर्ड स्तर 76.06 रुपए को छुआ था, यानि मौजूदा दाम रिकॉर्ड तोड़ने से 75 पैसे दूर है। कोलकाता की बात करें तो वहां अब दाम 78.01 रुपए, मुंबई में 83.16 रुपए और चेन्नई में 78.16 रुपए हो गया है।

डीजल की बात करें तो गुरुवार को दिल्ली में उसका दाम 66.79 रुपए, कोलकाता में 69.33 रुपए, मुंबई में 71.12 रुपए और चेन्नई में 70.49 रुपए प्रति लीटर हो गया है। देश के 3 शहर ऐसे हैं जहां डीजल 72 रुपए प्रति लीटर के ऊपर बिक रहा है, तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद में इसका दाम 72.60 रुपए, केरल के त्रिवेंद्रम में 72.51 रुपए और छत्तीसगढ़ के रायपुर में 72.12 रुपए प्रति लीटर है।


सरकारी कंपनियों ने 19 दिन बाद दाम बढ़ाए हैं। इससे पहले 24 अप्रैल को पेट्रोल के दाम 13 और डीजल के 18 पैसे बढ़ाए गए थे। हालांकि कंपनियां इस बात से इनकार कर रही हैं कि कर्नाटक चुनाव के कारण सरकार ने दाम न बढ़ाने का निर्देश दिया था। इंडियन ऑयल के चेयरमैन संजीव सिंह ने पिछले हफ्ते इसे इत्तेफाक बताते हुए कहा था कि लोगों को राहत देने के मकसद से कंपनियों ने दाम नहीं बढ़ाने का फैसला लिया। 
गुजरात विधानसभा चुनाव से पहले 8 से 13 दिसंबर तक ईंधन की कीमत रोजाना एक से तीन पैसे तक घटाई गई थी। इस दौरान पेट्रोल-डीजल 12 पैसे सस्ते हुए थे। लेकिन 14 दिसंबर को वोटिंग के बाद दाम फिर बढ़ने लगे थे। 

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com