जवानों ने तलाशी के नाम पर पहले कपड़े उतरवाए, फिर राखी बंधवाई…

रक्षाबंधन का दिन था, जी वही दिन जब भाई अपनी अपनी बहिन की रक्षा के लिए कसम खाता है, उसी दिन कुछ ऐसी खबर भी आई जिसने पूरे देश को शर्मसार कर दिया. यह बात छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले जिले की है, जिले में रेजिडेंशल स्कूल में प्रोग्राम चल रहा था. CRPF के जवानों को 500 लड़कियां राखी बांधने आई थीं. आरोप है कि कुछ लड़कियां बाथरूम में गईं तो वहां तैनात CRPF के जवान भी उनके पीछे-पीछे गए. और तलाशी के नाम पर उनके कपड़े उतरवाए. राखी बाँधने आई उन लडकियों को सेक्शुअली हैरेस किया गया. इस हरकत के बाद लड़कियां इतना डर गईं कि किसी को बताना मुनासिफ नही समझा. बाद में जब एक लड़की ने अपने सहेली से बताया. तो उसकी सहेली ने भी अपने साथ ऐसी हरकत होने की बात कही. इसके बाद और भी लड़कियों ने ऐसी ही हरकत होने की बात कही. और मामले का खुलासा हो गया.

ये काम देश के उन्ही जवानों ने किया है जिनपर देश आँख मूंदकर विश्वाश करता है.और अगर यह काम देश के जवान करने लगे तो ये देश कितने गत में है, हम जान सकते है.

 

आपको बता दें की ऐसा पहली बार नही हुआ है, देश में ऐसे काम अक्सर होते रहते है, बहरहाल जब इस मामले की शिकायत पुलिस में की गई तो जिलाधिकारी, पुलिस एसपी और सीआरपीएफ के डीआईजी ने बालिका आश्रम गवर्नमेंट गर्ल्स स्कूल का दौरा किया. मामले की जांच के लिए टीम बनाई, जिसमें दो महिला सदस्य भी थीं. जांच के बाद CRPF के दो जवानों को सस्पेंड कर दिया गया है. दंतेवाडा के एसपी कमलोचन कश्यप का कहना है कि जिन दो जवानों ने स्टूडेंट्स से गंदी हरकत की, उनकी पहचान लड़कियों के बयानों और प्रोग्राम के फोटोग्राफ देखकर की गई. इनमें से एक कॉन्स्टेबल शमीम अहमद (31) को बुधवार को गिरफ्तार कर लिया गया है. वो CRPF की 231 बटालियन से जुड़ा है. दूसरे जवान को गिरफ्तार करने के लिए पुलिस की टीम भेजी गई है. वह 3 अगस्त से छुट्टी पर है और माना जा रहा है कि घटना के बाद उत्तरांचल के देहरादून में अपने घर गया है.

हमारा आपको बताने का बिलकुल भी यह मतलब नही है की देश के जवान ऐसे है, अक्सर नदी में गंदे कीड़े आ जाते है, और इन्हें जल्दी ही निकाल कर फेंक देना चाहिए. जहाँ देश में ऐसा करने वाले जवान हैं तो वहीँ भारत देश की इस पावन भूमि पर कुछ ऐसे जवान भी है जिन्होंने खुद को शहीद करके देश को बचाया है.

 

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com