पलक झपकते ही टूटकर चकनाचूर हुए 12 से अधिक शोरूमों के बेशकीमती टफन गिलास

दहशत में है दिल्ली के दुकानदार, गोली चलने जैसा सुना धमका, घटना सीसीटीवी कैमरे में कैद

 
DELHI HADSHA

 

  • रिपोर्टः मोहम्मद अजीज सैफी

दिल्ली। राजधानी दिल्ली में एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है, जहां बीती रात पलक झपकते ही 12 से अधिक शोरूमों के बेशकीमती टफन गिलास टूटकर चकनाचूर हो गए।

दरअसल ये पूरा मामला बिंदापुर थाना इलाके का है, जहां नजफगढ़ रोड पर लगभग 1 किलोमीटर के दायरे में बने शोरूम और बड़े दुकानों के शीशे महज 10 से 15 सेकंड के अंदर टूट गई। 12 से अधिक दुकानों के शीशे अचानक एक साथ टूटने से इलाके में सनसनी फैल गई है। बताया गया कि जिस वक्त शीशे टूटे उस समय एक दम धमाके की आवाज हुई जिससे दुकान में मौजूद दुकानदार उनके स्टाफ और ग्राहक भी डर गए।

शोरूम के मालिक का कहना है कि आवाज इतनी तेज थी ऐसा लगा कि जैसे गोली चली हो और किसी की दुकान के दरवाजे पर लगे मोटे शीशे तो किसी शोरूम के साइड में लगे 20 फीट लंबाई और 15 फीट चौड़ाई वाला टफन ग्लास महज कुछ सेकंड भर में चकनाचूर हो गया। इन लोगों को समझ में नहीं आ रहा कि आखिर हुआ तो हुआ क्या, शुरू में तो इन दुकानदारों को लगा कि महज इत्तेफाक या हादसा था, लेकिन जैसे-जैसे इन्हें इस बात की जानकारी मिली की दुकानों के शीशे न सिर्फ उनकी दुकान या शोरूम बल्कि एक एक करके इलाके की 12 से अधिक दुकानों के टूटे हैं तब ये बात समझ में आई कि ये किसी की साजिश हो सकती हैं।

दुकानदारों का कहना है कि आवाज बहुत तेज हुई थी और कहीं ना कहीं पिस्टल का इस्तेमाल किया गया है या फिर कोई और तकनीक से कुछ शरारती तत्वों ने शीशे तोड़े है, इन दुकानों और शोरूम में लगे अधिकतर सीसीटीवी पर ही फोकस है, जिसमें साफ तौर पर शीशे टूटने की घटना कैद भी हुई है, लेकिन इस बात के अभी तक कोई सबूत नहीं आए हैं कि चलते ट्रैफिक के बीच किसने और कैसे इस तरह से शीशे पर चोट किया, जिससे ये शीशे टूटे। घटना सवा 8 से साढ़े 6 के बीच की है

दरअसल जब दुकानदारों को कई दुकानों के शीशे टूटने की जानकारी मिली तब इन्होंने पुलिस को भी कॉल किया कुछ जगह पर पीसीआर की गाड़ी आई थी, लेकिन एक कपड़े के बड़े शोरूम में तो कई बार कोल करने के बावजूद रात में पुलिस वाले नहीं आई और उनका कहना है कि 18 घंटे बाद जब दोबारा उन्होंने पुलिस को कोल किया तब पुलिस मौके पर आई है। इस दौरान वे इस बात से नाराज भी दिखे और उन्होंने कहा जब कोई बड़ी वारदात हो जाएगी तो क्या पुलिस ऐसा ही रवैया अपनाएगी।

दुकानदारों के अनुसार दरवाजे या शोरूम में मोटा टफन ग्लास लगाया जाता है, जो काफी मजबूत और कीमती भी होता है जिस पर पत्थर मारने से भी नहीं टूटता इसलिए आशंका यही है कि किसी ने बुलेट का इस्तेमाल किया या फिर लेजर का इस्तेमाल किया गया है और सभी दुकानदार को इसमें कोई बड़ी साजिश नजर आ रही है। जिन दुकान या शोरूम के शीशे टूटे उसमें एक बड़ा गारमेंट शोरूम एक ज्वेलरी शॉप एक चश्मे का शोरूम एक नामी कंपनी के कपड़े का शोरूम और एक नामी परचून की दुकान शामिल है, जबकि 3 दिन पहले ही सड़क के दूसरी तरफ 2 दुकानों के 2 बार ऐसे ही शीशे टूट चुके हैं इस घटना से हैरान-परेशान शोरूम के मालिक ने बिंदापुर थाने में लिखित शिकायत भी दे दी है।