मुजफ्फरनगरः 5 क़ातिलों को उम्र कैद की सजा, अदालत ने 3 आरोपी किए बरी

चर्चित बहावड़ी ग्राम प्रधान हत्याकांड में करीब 11 साल बाद आया फैसला
 
umarkaid
क्राइम कैपिटल मुजफ्फरनगर के चर्चित बहावड़ी ग्राम प्रधान हत्याकांड में करीब 11 साल बाद फैसला आया है। कोर्ट ने 5 दोषियों को उम्र कैद और 14-14 हजार रुपये के अर्थदंड की सजा सुनाई है, जबकि 3 को बरी कर दिया है। इस मुकदमे के वादी को भी कोर्ट परिसर में गोली मारकर मौत के घाट उतार दिया गया था, जिसका मुकदमा अलग से चल रहा है। चलिए बताते हैं आपको पूरा मामला सिलसिलेवार तरीके से....

  • रिपोर्टः अमित सैनी, प्रधान संपादक


मुज़फ्फरनगर। जिले के चर्चित बहावड़ी ग्राम प्रधान हत्याकांड में 5 आरोपियों को अदालत ने दोषी करार देते हुए उम्र कैद की सज़ा सुनाई है। करीब 11 साल बाद आए इस फैसले में अदालत ने दोषियों पर 14-14 हजार रुपये का अर्थदंड भी लगाया हैं। हालांकि सबूतों के अभाव में अदालत ने 3 आरोपियों को बरी कर दिया है।


ये था पूरा मामला
दरअसल... 25 जनवरी सन् 2011 को थाना फुगाना के ग्राम बहावड़ी के ग्राम प्रधान बिजेंद्र की हत्या काबड़ौत के रास्ते पर गोलियों से भूनकर कर उस वक्त कर दी गई थी, जब वो शामली से अपने घर लौट रहा था। इस गोली बारी में कई लोग घायल भी हुए थे। इस मामले में ब्रजपाल, चरणसिंह, सोरेन, नरेश, विवेक, बसंत, बंटी और सुमित को आरोपित किया गया था। ये मामला उस वक्त का चर्चित मामला रहा था।


विशेष कोर्ट में हुई सुनवाई
इस मुकदमे की सुनवाई विशेष अदालत एससी/एसटी के जज जमशेद अली की कोर्ट में हुई। अभियोजन की तरफ से विशेष अधिवक्ता यशपाल सिंह और बचाव पक्ष की तरफ से वकार अहमद ने पैरवी की।

court room


इन लोगों को हुई सज़ा
इस मामले में कुल 8 लोगों के नाम सामने आए थे, जिनमें से कोर्ट ने निम्न लोगों को दोषी मानते हुए उम्र कैद समेत 14-14 हजार रुपये के अर्थदंड की सज़ा सुनाई

  1. ब्रजपाल
  2. चरण सिंह
  3. सोरेन
  4. नरेश
  5. विवेक

ये लोग हुए बरी
अदालत ने सबूतों और गवाहों के अभाव में निम्न 3 लोगों को बरी कर दिया है।

  1. बसंत
  2. बंटी
  3. सुमित

not guilty

दुस्साहसिक हत्या में जेल गया था सुमित
आपको बता दें कि बिजनौर जनपद की कोर्ट रूम में शाहनवाज की दुस्साहसिक हत्या के मामले में भी बरी किए गए सुमित का नाम प्रकाश में आया था। पुलिस ने दोनों ही मामलों में गिरफ्तार कर सुमित को जेल भेजा था। ज्ञात रहे कि शाहनवाज की दिसंबर 2019 में कोर्ट रूम के अंदर ही गोलियों से भूनकर हत्या कर दी गई थी।

MURDER


वादी की भी कोर्ट परिसर में हुई थी हत्या
आपको ये भी जानकारी दे दें कि बहावड़ी के ग्राम प्रधान बिजेंद्र की हत्या में देवेंद्र की तरफ से मुकदमा दर्ज कराया गया था। बाद में इस मामले की पैरोकारी करने के दौरान देवेंद्र की भी उस वक्त कोर्ट परिसर में गोली मारकर निर्ममता से हत्या कर दी गई थी, जब वो कोर्ट के बाहर फसील पर बैठा हुआ था। इस हत्याकांड का मामला अलग से चल रहा है।