रेलवे ग्रुप-डी की ऑनलाइन परीक्षा में नकल कराने आए 2 सॉल्वर समेत 8 लोग गिरफ्तार

पेपर सॉल्व के एवज में लेते थे 5 लाख रुपये

 
गोरखपुर

गोरखपुर। उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में रेलवे की ग्रुप-डी की ऑनलाइन परीक्षा में सॉल्वर गैंग ने सेंध लगा दी। एसटीएफ और पुलिस ने दो सॉल्वर समेत आठ लोगों को नौसड़ के स्वास्तिक ऑनलाइन सेंटर से गिरफ्तार किया है। पकड़े गए लोगों से पूछताछ में पता चला कि पांच लाख रुपये में सौदा होता था। पहली पाली में एसटीएफ ने चार युवकों को पकड़ा, और तीसरी पाली में भी पुलिस ने चार लोगों को गिरफ्तार किया है। एसटीएफ ने आरोपियों के खिलाफ गीडा थाने में केस दर्ज कराया है।

इंस्पेक्टर सत्य प्रकाश सिंह के नेतृत्व में टीम ने स्वास्तिक ऑनलाइन सेंटर नौसड़ स्थित केंद्र के बाहर से तीन युवकों को गिरफ्तार किया। इनसे पूछताछ में पता चला कि स्वास्तिक ऑनलाइन सेंटर के कक्ष में मूल अभ्यर्थी मिथिलेश कुमार के स्थान पर सॉल्वर रंजीत कुमार परीक्षा दे रहा है। टीम ने सेंटर के अंदर जाकर ड्यूटी पर मौजूद कर्मियों को साथ लेकर सॉल्वर रंजीत को गिरफ्तार कर लिया। पकड़े गए आरोपियों की पहचान रंजीत कुमार (सॉल्वर) निवासी मोहल्ला गाड़ीखाना थाना खगौल, जनपद पटना, बिहार। अखिलेश्वर सिंह निवासी ग्राम अहिरौली बघेल, थाना बनकटा, जनपद देवरिया, मिथिलेश कुमार थाना खोराबार, जनपद गोरखपुर और रामनरेश निवासी ग्राम हीहुरा, पोस्ट मलिक मऊ चैबारा रायबरेली के रूप में हुई है।

उधर, पुलिस ने स्वास्तिक ऑनलाइन सेंटर नौसड़ से रेलवे की ग्रुप-डी परीक्षा की तीसरी पाली में दूसरे के स्थान पर परीक्षा देने वाले सॉल्वर गैंग के चार गुर्गों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों की पहचान बिहार के पंकज, संदीप, इंद्रजीत और दीपचंद के रूप में हुई है। इनके पास से फर्जी आधार कार्ड, कॉल लेटर मिले हैं। खोराबार इलाके के दीपचंद की जगह पर बिहार का पंकज परीक्षा दे रहा था।