पीएफआई के मामले में एटीएस की गाजियाबाद में छापेमारी

पीएफआई का एजेंट परवेज फरार, भाई और पिता हिरासत में

 
RAID

 

  • रिपोर्टः अजीत रावत

गाजियाबाद। देश के 13 राज्यों में देर रात से जारी NIA, ED और एटीएस की छापेमारी गाजियाबाद भी पहुंच गई है। यहां भोजपुर थाना इलाके के कलछीना गांव में यूपी एटीएस की टीम ने सुबह तड़के 4 बजे भोजपुर थाने की पुलिस की मौजूदगी में रेड की है। इस दौरान गांव में सुबह के समय शोर होने पर घर से महिलाए और आस पड़ोस के लोगों से एटीएस की टीम की नोकझोक और हाथापाई भी हुई। घर में घुसने का महिलाओं ने विरोध भी किया। जिसका फायदा उठाकर परवेज मौके से फरार हो गया। परवेज पीएफआई के मेरठ स्थित पश्चिमी यूपी कार्यालय का प्रभारी भी रह चुका हैं। पुलिस अधिकारियों के मुताबिक सुबह के समय ही यूपी एटीएस के एसपी अभिषेक सिंह द्वारा रेड के लिए फोर्स की मांग की गई थी। जिसके बाद भोजपुर थाने से पुलिस फोर्स कलछीना गांव भेजी गई। पुलिस और एटीएस की टीम ने परवेज के पिता और भाई इरफान और फुरकान को हिरासत में लेकर भोजपुर थाने ले गई है। कलछीना गांव में एटीएस के छापे के बाद सन्नाटे का माहौल है कोई कुछ भी बोलने को तैयार नही हैं।

दरअसल... परवेज दिसंबर 2020 में CA, NRC को लेकर हुई हिंसा के मामले का मास्टरमाइंड था। मेरठ और गाजियाबाद के मुरादनगर में हुई हिंसा में उसके द्वारा फंडिंग की गई थी, इसके खिलाफ मुकदमा भी दर्ज किया गया था। इसके बाद से वो फरार हो गया था यूपी एटीएस ने उसे जयपुर से गिरफ्तार किया था उसके घर की तलाशी के दौरान फंडिंग के कई सबूत और कई हिंसा भड़काने वाले आपत्तिजनक पोस्टर भी बरामद किए गए थे। यूपी एटीएस ने उसके बाद से ही परवेज की गतिविधियों को सर्विलांस पर रखा था।

पीएफआई के संबंध में यूपी एटीएस की रेड में परवेज तो फरार हो गया लेकिन मौके से उसके पिता इरफान और भाई फुरकान को एटीएस ने हिरासत में लेकर भोजपुर थाने में रखा है। इसके अलावा एटीएस की टीम लगातार गांव में रुक कर छानबीन और पूछताछ कर रही है। पहले भी यूपी एटीएस की टीम ने बड़ी मशक्कत के बाद परवेज को सीएए एनआरसी में हिंसा कराने के आरोप में जयपुर से गिरफ्तार किया था। सूत्र बताते हैं कि परवेज अहमद के रेड के दौरान फरार होने के मामले में भोजपुर थाने पर मुकदमा दर्ज कराया जा सकता है, हालांकि अभी तक एटीएस की टीम की तरफ से कोई भी शिकायत नहीं दी गई है।