मुजफ्फरनगर में रंगदारी के मामले में आरोपी सभासद प्रवीण पीटर और उसका बेटा रिहा

हाईकोर्ट से जमानत मिलने पर बेटे शैंकी समेत हुई पीटर की रिहाई

 
mzn court

मुजफ्फरनगर। रंगदारी मांगे जाने के मामले में आरोपी सभासद प्रवीण पीटर और उसके बेटे शैंकी को जेल से रिहा कर दिया गया। हाईकोर्ट से दोनों को कई दिन पहले ही जमानत मिल गई थी। रंगदारी के मामले में मुकदमा दर्ज होने के बाद प्रवीण पीटर ने 10 जून को एडीजे कोर्ट में सरेंडर कर दिया था।

दरअसल नई मंडी कोतवाली इलाके के संजय मार्ग निवासी मनीष गुप्ता ने मुकदमा दर्ज कराते हुए कुछ लोगों पर पचेंडा रोड स्थित फैक्ट्री में जबरन साझेदारी का दबाव बनाने और इसके बाद मारपीट करते हुए लाखों की अवैध उगाही करने का आरोप लगाया था। नई मंडी कोतवाली पुलिस ने तत्कालिक एसएसपी अभिषेक यादव के आदेश पर मामले में संजीव माहेश्वरी उर्फ जीवा, उसकी पत्नी पायल माहेश्वरी, सचिन अग्रवाल, अमित गोयल उर्फ अमित बौना, अमित माहेश्वरी और उसकी पत्नी अनुराधा, शुभम बंसल, शैंकी मित्तल समेत सभासद प्रवीण मित्तल उर्फ पीटर के खिलाफ संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज किया था।

बता दें कि रंगदारी के मामले में मुकदमा दर्ज होने के बाद कोर्ट में सरेंडर कर जेल गए सभासद प्रवीण पीटर और उसके बेटे शैंकी मित्तल को चार दिन पूर्व हाईकोर्ट से जमानत मिल गई थी। कोर्ट से जमानत आदेश आने के बाद प्रवीण पीटर और उसके बेटे शैंकी मित्तल को जिला जेल से रिहा कर दिया गया। इस मामले में आरोपी रालोद नेता और संजीव उर्फ जीवा की पत्नी पायल माहेश्वरी ने गिरफ्तारी के खिलाफ हाईकोर्ट से स्टे लिया हुआ है। जबकि कई अन्य आरोपियों को भी हाईकोर्ट से राहत मिल चुकी है।