एंटी करप्शन की टीम ने गिरफ्तार किया रिश्वतखोर दरोगा

मुकदमें से नाम हटाने के एवज में ली थी रिश्वत

 
दरोगा गिरफ्तार

हमीरपुर। उत्तर प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ लगातार सरकारी नुमाइंदों को सख्ती से भ्रष्टाचार न करने के निर्देश दे रहे है। लेकिन सरकारी नुमाइंदे अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहे। जिसका जीती जागता उदाहरण हमीरपुर जनपद में पुलिस विभाग से सामने आया है। यहां एक दरोगा को रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया गया है।

दरअसल... ये मामला जलालपुर थाना के बरहरा गांव का है. जहां एसआई हरिश्चंद्र ने एक मुकदमे में वांछित चल रहे आरोपी के भाई से नाम हटाने के एवज में 50 हजार रुपये रिश्वत की मांग की थी। जिसके बाद पीड़ित ने इसकी शिकायत एंटी करप्शन टीम के उच्च अधिकारियों से लखनऊ जाकर की और लिखित प्रार्थना पत्र देकर एसआई हरिश्चंद्र के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की एंटी करप्शन टीम ने तत्काल 11 सदस्य टीम बनाकर जिला हमीरपुर भेजा जहां पर जलालपुर थाने में तैनात एसआई हरिश्चंद्र को 10 हजार रुपये की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों दबोच लिया।

पीड़ित रत्नेश ने बताया कि उसने लगातार उच्च अधिकारियों को शिकायत की थी। लेकिन शिकायत करने के बाद भी किसी अधिकारी ने उसकी बात का संज्ञान नहीं लिया था। जिसके बाद उसने एंटी करप्शन को इसकी शिकायत की थी। एटी करप्शन की टीम ने रिश्वतखोर दरोगा को रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया।