पीएफआई के मामले में बड़ी कार्रवाई, यूपी समेत 11 राज्यों में पीएफआई के ठिकानों पर छापा

एटीएस ने लखनऊ से एक संदिग्ध को किया गिफ्तार

 
pfi action

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से एक बड़ी खबर सामने आ रही है। यहां संदिग्ध आतंकी की गिरफ्तारी राजधानी से हुई है। उसकी निशानदेही पर एक अन्य गिरफ्तारी भी हुई है। उत्तर प्रदेश एंटी टेररिस्ट स्क्वायड  की टीम ने इस पूरी कार्रवाई को अंजाम दिया है। दरअसल लखनऊ के इंदिरा नगर में संदिग्ध गतिविधि की सूचना पुलिस को मिली थी। इसके बाद एटीएस को जांच में लगाया गया था। वहां से एक संदिग्ध आतंकवादी के गिरफ्तारी की सूचना आ रही है। पूरा मामला पीएफआई रेड से जुड़ा हुआ बताया जा रहा है। देश भर में पीएफआई के ठिकानों पर छापेमारी चल रही है। उत्तर प्रदेश से इस कार्रवाई में 8 संदिग्धों को हिरासत में लिया गया है। इसमें से वाराणसी से 2 संदिग्धों को हिरासत में लिए जाने का मामला सामने आया है।

दरअसल.... यूपी एटीएस की ओर से खुफिया सूचना के आधार पर चलाए गए तलाशी अभियान के दौरान आतंकवादी को पकड़े जाने का मामला सामने आया है। सर्च ऑपरेशन के दौरान भी संदिग्ध आतंकी की हरकत संदेहास्पद लगी थी। इसके बाद सर्च में उसके पास से कई आपत्तिजनक चीजें भी बरामद की गई है। उसे गिरफ्तार कर लिया गया है। ये पूरी घटना बुधवार देर रात की है। पीएफआई टेरर फंडिंग के मामले को लेकर देश भर में पीएफआई के संदिग्धों के खिलाफ छापेमारी चल रही है। इसी क्रम में लखनऊ के इंदिरा नगर से भी एक संदिग्ध आतंकी को गिरफ्तार किया गया है। देश भर में 10 से अधिक राज्यों में पीएफआई के ठिकानों पर छापा मारा जा रहा है। इस क्रम में यूपी में भी छापेमारी चल रही है। लखनऊ से संदिग्ध आतंकी की गिरफ्तारी से हड़कंप मच गया।

गाजीपुर थाना इलाके में की गई कार्रवाई

लखनऊ के गाजीपुर थाना इलाके के इंदिरा नगर में एक युवक के संदिग्ध गतिविधि की सूचना पुलिस को मिली थी। खुफिया सूचना के आधार पर यूपी एटीएस की टीम ने छापा मारा और संदिग्ध आतंकी की गिरफ्तारी कर ली गई। उसके पास से कई आपत्तिजनक सामान मिलने की भी सूचना आई है। हालांकि, यूपी पुलिस की ओर से अभी इस संबंध में कोई खुलासा नहीं किया गया है। संदिग्ध आतंकी से पूछताछ की जा रही है।

दरअसल संदिग्ध आतंकी से पूछताछ में कुछ और लोगों के नाम सामने आ सकते हैं। इसके बाद ऑपरेशन का दायरा बढ़ भी सकता है। तमाम संभावनाओं को देखते हुए पुलिस की ओर से अभी इस बारे में कोई खुलासा करने से बचा जा रहा है।

यूपी के कई ठिकानों पर चल रही छापेमारी

एनआईए और ईडी की ओर से यूपी समेत 11 राज्यों में पीएफआई फंडिंग के मामले में छापेमारी चल रही है। इस क्रम में प्रदेश में कई स्थानों पर छापे मारे जा रहे हैं। इस छापेमारी में अब तक 8 संदिग्धों को हिरासत में लिया गया है। इसमें से 2 संदिग्ध वाराणसी से हिरासत में लिए गए हैं। सभी से मामले में पूछताछ की जा रही है।

लखनऊ से वसीम नाम के युवक की गिरफ्तारी

लखनऊ के इंदिरा नगर से वसीम उर्फ बबलू नाम के युवक की गिरफ्तारी की गई है। वसीम टेलर का काम करता है। उसका इंदिरा नगर में तीन तल का मकान है। एटीएस की टीम ने 22 सितंबर की सुबह ही उसे घर से उठाया है। घर पर उसके पिता मौजूद हैं। हालांकि, परिजनों ने खुद को घर में कैद कर लिया है। उसके पीएफआई कनेक्शन के बारे में खुफिया सूचना पुलिस को मिली थी।

वसीम का एक दोस्त भी गिरफ्तार

वसीम के एक दोस्त की भी गिरफ्तारी हुई है। वसीम से पूछताछ के बाद दोस्त के गिरफ्तारी का मामला सामने आ रहा है। वसीम की गिरफ्तारी के बाद मुहल्ले में हड़कंप मचा हुआ है। लोग अपनी-अपनी घरों के छत से देख रहे हैं। मुहल्ले के लोगों का कहना है कि वसीम का नाम इससे पहले कभी किसी भी मामले में नहीं आया था। केंद्रीय एजेंसियों की कार्रवाई के क्रम में दूसरी गिरफ्तारी का मामला लखनऊ से सामने आया है।

बहराइच से एक युवक गिरफ्तार

पीएफआई के खिलाफ यूपी में चल रही छापेमारी के क्रम में बहराइच से एक संदिग्ध को हिरासत में लिया गया है। एनआईए और एटीएस की टीम ने जरवल में छापेमारी की है। जरवल निवासी कमरुद्दीन उर्फ बब्बू को हिरासत में लिया गया है। टेरर फंडिंग मामले में टीम ने छापेमारी की है। पीएफआई में संलिप्तता की आशंका पर एनआईए ने कार्रवाई की है। देर रात एनआईए की कार्रवाई से इलाके में हड़कंप मचा हुआ है। जरवल इलाके के कटरा दक्षिण कस्बे से ये पूरा मामला सामने आया है।

बाराबंकी से भी एक युवक की गिरफ्तारी

यूपी के बाराबंकी से भी एक आरोपी को गिरफ्तार किया गया है। बाराबंकी से टेरर फंडिंग केस में पीएफआई से जुड़े सदस्यों को गिरफ्तार किया गया है। इस मामले में गिरफ्तार होने वाले के बारे में अहम जानकारी सामने आई है। उसे पीएफआई में एक अहम पद धारण करने वाला बताया जा रहा है। उसके कोषाध्यक्ष हाने की बात कही जा रही है। हालांकि, अभी तक उसके नाम के बारे में जानकारी सामने नहीं आ पाई है।