दुर्दांत अपराधी देवेंद्र सिंह 'गब्बर' पर बड़ी कार्यवाही

प्रशासन ने 110 करोड़ की संपत्ति पर लगाया ताला

 
KURKE

 

  • रिपोर्टः विजय प्रताप गुप्ता

बहराइच। मुख्यमंत्री के मंच पर चढ़कर गुलदस्ता देने की तस्वीर सामने आने के बाद चर्चा में आए जिला पंचायत सदस्य और माफिया गब्बर सिंह की 110 करोड़ की संपत्ति को जिला प्रशासन ने कुर्क कर लिया। चंद मिनटों में ही माफिया का होटल छावनी में तब्दील हो गया। गेट से लेकर अंदर भारी मात्रा में फोर्स तैनात हुई और बजते सायरन के बीच डीएम-एसपी के साथ अन्य प्रशासनिक अमला बंधन होटल पहुंच गया। डीएम ने कुर्की की नोटिस चस्पा करते हुए सीज करने की कार्रवाई करने का निर्देश दिया। डीएम के निर्देश पर सिटी मजिस्ट्रेट के नेतृत्व में कार्रवाई की गई। माफिया गब्बर के खिलाफ अब तक 47 मुकदमे दर्ज हो चुके हैं।

दरअसल... पयागपुर थाना इलाके के मोहनमाफी गांव निवासी देवेंद्र सिंह उर्फ गब्बर सिंह जिला पंचायत सदस्य है। इसके खिलाफ 1992 से लेकर अब तक 47 मुकदमे दर्ज हैं। गब्बर सिंह पर श्रावस्ती, गोंडा, बलरामपुर और अयोध्या जिले में कूटरचित दस्तावेज तैयार करके सरकारी जमीन पर कब्जा करना और गरीब लोगों को बंधक बनाकर जमीन को क्रय-विक्रय के मामलों में मुकदमे दर्ज हो चुके हैं। इस समय पयागपुर थाने में 6 मुकदमे दर्ज हैं। बढ़ते अपराध को देखते हुए एसपी केशव चौधरी के निर्देश पर गब्बर सिंह के खिलाफ गुंडा एक्ट की कार्रवाई की गई। रविवार की दोपहर लगभग 12 बजे अवैध धन से बनाया गया बंधन गेस्ट हाउस छावनी में तब्दील हो गया। होटल के बाहर से लेकर अंदर तक पीएसी और पुलिस के जवान मुस्तैद हो गए।

इस मौके पर एएसपी नगर कुंवर ज्ञानंजय सिंह, एडीएम मनोज कुमार, सिटी मजिस्ट्रेट ज्योति राय, सीओ सिटी विनय द्विवेदी, कैसरगंज सीओ कमलेश सिंह, नगर कोतवाल शैलेश सिंह, देहात कोतवाल सत्येंद्र बहादुर सिंह और दरगाह थानाध्यक्ष मनोज सिंह मुस्तैद मौजूद रहे, तभी डीएम डॉ. दिनेश चंद्र और एसपी केशव चौधरी का काफिला होटल में पहुंचा। डीएम ने माइक से ऐलान करते हुए कहा कि इस होटल को धारा 14(1) के तहत कुर्क किया जाता है। डीएम के निर्देश के बाद सिटी मजिस्ट्रेट के नेतृत्व में आगे की कार्रवाई की गई। डीएम ने बताया कि सिटी मजिस्ट्रेट को प्रशासक नियुक्त किया गया है। सहयोग के लिए तहसीलदार और सीओ पुलिस को लगाया गया है।