दुष्कर्म के 2 आरोपियों को कोर्ट ने सुनाई 20-20 साल सजा, 30-30 हजार का जुर्माना भी ठोका

जुर्माना अदा नहीं किए जाने पर भुगतनी होगी 2-2 वर्ष की अतिरिक्त सज़ा

 
COURT

  • रिपोर्टः एम.रहमान (वरिष्ठ पत्रकार)

मुज़फ्फरनगर। साल 2015 में 17 वर्षीय नाबालिग के साथ दुष्कर्म के मामले में कोर्ट ने 2 आरोपियों को दोषी करार दिया हैं. कोर्ट ने अपना फैसला सुनाते हुए दोनों आरोपियों को 20-20 साल की सजा सुनाई हैं. साथ ही दोनों आरोपियों पर 30-30 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया हैं. और जुर्माना अदा नहीं किए जाने पर दो वर्ष की अतिरिक्त सज़ा भुगतनी के आदेश सुनाए हैं।

दरअसल थाना छपार इलाके के एक गांव में 30 जुलाई 2015 को एक 17 वर्षीय नाबालिग अपनी मां के पास घर में सो रही थी. पिता और भाई खेतों में पानी देने गए हुए थे. तो आरोपी जमशेद और अय्यज़ ने घर में घुस कर पीड़िता के साथ पिस्तौल की नोक पर सामूहिक बलात्कार किया और जान से मारने की धमकी दी थी। घटना के बारे में पीड़िता की मां ने मामला दर्ज कराया था

बता दें कि मामले की सुनवाई स्पेशल पोक्सो कोर्ट नंबर एक कि ज़ज़ आरती फौजदार की अदालत में हुई वादी की ओर से ऐडीजीसी कुलदीप पुंढीर, विशेष अधिवक्ता पोक्सो विक्रांत राठी, प्रदीप बालियान ने पैरवी की और 7 गवाह पेश किए। जिसके बाद अदालत ने दोनों को दोषी ठहरते हुए 376 डी में 20 वर्ष की सज़ा और 2-25 हज़ार का जुर्माना 452 में 5-5 वर्ष की सज़ा 3-3 हज़ार का जुर्माना और 323 एवं 506 में एक-एक वर्ष की सज़ा के साथ एक-एक हज़ार रुपये का जुर्माना लगाया है।