बलात्कारी को 20 साल की सजा, 20 हजार रुपये का जुर्माना भी लगा

अदालत ने 7 साल पुराने मामले में सुनाया फैसला
 
court room
  • एम.रहमान (वरिष्ठ पत्रकार, मुजफ्फरनगर)
मुज़फ्फरनगर। विशेष पोक्सो अदालत ने शुक्रवार को 7 साल पुराने मामले में फैसला सुनाते हुए बलात्कारी को 20 साल की सजा सुनाई। साथ ही अदालत ने किशोरी के गुनहगार पर 20 हजार रुपये का जुर्माना भी ठोका है।
मुजफ्फरनगर की विशेष पोक्सा अदालत के जज बाबूराम की कोर्ट में हुई सुनवाई के दौरान अभियोजन पक्ष की तरफ से विशेष अभियोजक दिनेश शर्मा और मनमोहन वर्मा ने पैरवी की। अदालत ने तमाम गवाहों और सबूतों के मद्देनज़र शामली निवासी मोहित को कसूरवार ठहराया और दोषी को 20 साल की सजा सुनाई। जज ने दोषी मोहित पर 20 हजार रुपये का अर्थदंड लगाया है।
किताब दिलाने के बहाने छात्रा को साथ ले गया था रेपिस्ट
अभियोजन पक्ष की कहानी के मुताबिक, 23 मई 2015 को शामली की सिटी कोतवाली इलाके के एक गांव निवासी 17 साल की किशोरी को गांव का ही रहने वाला मोहित किताब दिलाने के बहाने घर से बुलाकर ले गया था। आरोप था कि आरोपी मोहित ने किशोरी को कुछ नशीला पदार्थ सुंघाकर पहले बेहोश किया और फिर एक अज्ञात स्थान पर ले जाकर उसके साथ मुंह काला किया। किशोरी को जब होश आया तो वो एक अजान कमरे में नग्नावस्था में पड़ी थी, जिसके बाद उसे आभास हुआ कि मोहित ने उसके साथ गलत काम किया है। पीड़िता ने मामले की जानकारी घर जाकर परिजनों को दी और आरोपी मोहित के खिलाफ आईपीसी की धारा 363, 366 और 376 समेत 3/4 पोक्सो अधिनियम के तहत शामली नगर कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराया। पुलिस ने उसके बाद आरोपी को गिरफ्तार जेल भेज दिया था।