मुजफ्फरनगर की अदालत ने बलात्कारी को सुनाई उम्र कैद की सजा

दलित किशोरी के साथ अपहरण के बाद किया था 'मुंह काला', अदालत ने जुर्माना भी ठोका
 
COURT
  • रिपोर्टः एम.रहमान, वरिष्ठ पत्रकार
मुजफ्फरनगर। अदालत ने 9 साल पुराने मामले में बलात्कारी को उम्र कैद की सजा सुनाई है। अपहरण के बाद दलित किशोरी के साथ मुंह काला करने वाले पर अदालत ने 61 हजार रुपये का जुर्माना भी ठोका है। 
अलग-अलग धाराओं में अलग-अलग मिली सजा और जुर्माना
मुजफ्फरनगर की विशेष पोक्सो कोर्ट में विचाराधीन मामले की सुनवाई जज बाबूराम ने की। अदालत ने कवाल गांव निवासी हैदर को अपहरण के बाद दलित किशोरी के साथ बलात्कार का दोषी माना है। अदालत ने आईपीसी की धारा 363 में तीन साल एवं 3 हजार रुपये का जुर्माना, आईपीसी की धारा 366 में 8 वर्ष एवं 8 हजार रुपये का जुर्माना, आईपीसी की धारा 376 में 20 साल एवं 20 हजार रुपये का जुर्माना तथा धारा 3(2)5 अनुसूचित जाति अनुसूचित जनजाति उत्पीड़न निवारण अधिनियम के तहत उम्र कैद और 30 हजार रुपये के जुर्माने की सजा सुनाई है।  इस मामले में अभियोजन की तरफ से विशेष अभियोजक दिनेश शर्मा और मनमोहन वर्मा ने पैरवी की।
ये था पूरा मामला
अभियोजन की कहानी के मुताबिक 26 मई साल 2013 में जानसठ इलाका निवासी 17 साल की दलित लड़की को कवाल निवासी हैदर अली बहला-फुसलाकर भगा ले गया था। इस मामले में 27 मई 2013 को पीड़िता के भाई की तरफ से जानसठ कोतवाली में अपहरण एवं रेप का आरोप लगाते हुए हैदर अली के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। 
advt_swimming Pool
Advt.