खबर का असरः उगाहीबाज दलालों का पुलिस ने भरा इलाज, अब जेल में पीसेंगे चक्की

पत्रकार बनकर करते थे धोखाधड़ी और मांगते थे रंगदारी, समाचार टुडे ने प्रमुखता से चलाई थी एक्सक्लूसिव खबर
 
fake reporter arrest in muzaffarnagar

  • स्क्रिप्टः अमित सैनी, प्रधान संपादक
  • रिपोर्टिंगः गोपी सैनी, स्पेशल कोरेस्पोंडेंट 

मुजफ्फरनगर। पत्रकार बनकर उगाही और दलाली करने वालों की फौज के खिलाफ प्रकाशित/प्रसारित गई समाचार टुडे की खबर का बड़ा असर हुआ है। शहर कोतवाली पुलिस ने पत्रकारिता का रौब गालिब कर मामलों का समाधान कराने और डरा-धमकाकर वसूली करने वाले 3 लौंडों का इलाज भर दिया है। पुलिस ने तीनों कार्टूनों को गिरफ्तार करके सलाखों के पीछे भेज दिया है, जबकि उनके फरार चल रहे एक साथी की पुलिस जोर-शोर से तलाश में जुटी है।
शहर कोतवाली पुलिस ने की कार्रवाई
शहर कोतवाली में आयोजित प्रेस कांफ्रेस को संबोधित करते हुए एसपी सिटी विजय वर्गीय ने बताया कि दिनांक 06.06.2022 को वादिया से फर्जी पत्रकारों द्वारा फैसला कराने हेतु नकदी लेना एवं जबरन घर मे घुसकर फर्जी मुकदमे में फसाने की घमकी देकर व डराकर और अधिक पैसे मांगनें के सम्बन्ध में थाना कोतवाली नगर पर 4 अभियुक्तगण के विरुद्ध सुसंगत धाराओं में अभियोग पंजीकृत किया गया था। थाना कोतवाली नगर पुलिस द्वारा न्याजूपुरा छप्पर वाली मस्जिद के पास से मंगलवार को 3 अभियुक्तों को गिरफ्तार किया गया। एसपी सिटी ने बताया कि ये लोग पत्रकारिता का रौब दिखाकर लोगों को डरा-धमकाते और मामलों का निपटारा कराने के नाम पर पैसे वसूलते थे।
पढ़िए कौन-कौन हुआ गिरफ्तार

  1. सरताज अहमद पुत्र अय्यूब, निवासीः मदिना कालोनी, थाना सिविल लाईन, मुजफ्फरनगर
  2. सारिक पुत्र नफीस, निवासीः हाजीपुरा सरवट, थाना सिविल लाईन, मुजफ्फरनगर
  3. निसार पुत्र रमजानी, निवासीः मल्लूपुरा, थाना सिविल लाईन, मुजफ्फरनगर

fake reporter arrest in muzaffarnagar

इसकी तलाश में पुलिस

  1. सुमित पुत्र सुशील, निवासीः केवलपुरी (कच्ची सडक), पुलिस चौकी के सामने, थाना सिविल लाइन, मुजफ्फरनगर।

पुलिस के मुताबिक सुमित अभी फरार चल रहा है, जिसकी लगातार तलाश जारी है। पुलिस का कहना है कि जल्द ही ये आरोपी भी सलाखों के पीछे होगा।


ये हुई है बरामदगी

  • 5 फर्जी आईकार्ड (भिन्न भिन्न न्यूज एजेंसी के)
  • 2 मोबाइल फोन

fake reporter arrest in muzaffarnagar

पुलिस की रडार पर दलालों के 'आका'
शहर कोतवाली में आयोजित पत्रकार वार्ता में एसपी सिटी विजय वर्गीय ने इशारों ही इशारों में बता दिया है कि अभी तो केवल शुरूआत है। पुलिस के असली निशाने पर तो इन तथाकथित छुटभैया फर्जी पत्रकारों के वो आका भी हैं, जो इन्हें अपने इशारों पर नचाकर दलाली और उगाही जैसे कार्य कराते या कराता था। माना जा रहा है कि इन गुर्गों के बाद अब बहुत जल्द पर्दें के पीछे रहने वाले इनके आकाओं के लिए भी जेल में चक्की पीसने का बंदोबश्त किया जाएगा।
फर्जी पत्रकारों के खिलाफ चलेगा अभियान
एसपी सिटी विजय वर्गीय ने स्पष्ट संदेश दिया है कि फर्जी पत्रकारों के खिलाफ इस तरह की कार्रवाई आगे भी निरंतर जारी रहेगी। पत्रकारिता की आड़ में गैर कानूनी और असमाजिक कार्यों में जो भी लिप्त पाया जाएगा, उसके खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी।
क्या था पूरा मामला
अभी तक आपने ये तो पढ़ ही लिया होगा कि आखिरकार कौन-कौन गिरफ्तार हुआ है और कौन फरार है। साथ ही आप ये भी समझ गए होंगे कि इन लोगों पर पुलिस की कार्रवाई का डंडा क्यों चला है। अगर आप अभी तक नहीं समझ पाए है तो दिए गए लिंक पर अपडेटः पत्रकारिता के माथे पर ’दलाली’ का ‘दाग तिलक’ कर रहे ‘दल्ले’, दाल में काला नहीं... क्लिक करके ये खबर जरूर पढ़े। आपकी समझ में आ जाएगा कि आखिरकार ये लोग पत्रकारिता की आड़ में क्या-क्या कांड कर रहे थे और समाचार टुडे को इनके खिलाफ अभियान के तहत खबर क्यों चलानी पड़ी।
Also Read: अपडेटः पत्रकारिता के माथे पर ’दलाली’ का ‘दाग तिलक’ कर रहे ‘दल्ले’, दाल में काला नहीं... पूरी दाल है काली, पढ़िए पूरी ख़बर!