अदालत का फैसलाः ताउम्र 'पिंजरे' में कैद रहेगा 'तोता', गुनाह साबित होने पर जुर्माना भी लगा

अगवा कर 8 साल की बच्ची को बलात्कार के बाद उतार दिया गया था मौत के घाट
 
court room

  • रिपोर्टः एम.रहमान वरिष्ठ पत्रकार


मुजफ्फरनगर। मासूम बच्ची को अगवा कर उसके साथ पहले रेप की वारदात को अंजाम देने और फिर उसके बाद बच्ची का कत्ल करने के मामले में अदालत ने गुनहगार को उम्र कैद की सजा सुनाई है। अदालत ने दोषी पर 45 हजार रुपये का जुर्माना भी ठोका है।
मुजफ्फरनगर की विशेष अदालत पोक्सो के जज संजीव कुमार तिवारी की कोर्ट ने गुरूवार को ये फैसला सुनाया गया। अभियोजन की तरफ से विशेष अभियोजक मनमोहन वर्मा और दिनेश कुमार ने पैरवी की। मंसूरपुर के ग्राम मुबारिकपुर निवासी सुनील कुमार उर्फ तोता को तमाम गवाहों और साक्ष्यों के मद्दनेजर अदालत ने 8 साल की बच्ची को अगवा करने, रेप के बाद हत्या करने और फिर उसकी लाश को ठिकाने लगाने के मामले में दोषी पाया, जिसके बाद अदालत ने दोषी सुनील कुमार उर्फ तोता को उम्र कैद की सजा सुनाते हुए उस पर 45 हजार रुपये का अर्थदंड भी लगाया।

ये था पूरा सनसनीखेज मामला
दरअसल ये पूरा मामला साल 2020 का है। 30 जुलाई को मंसूरपुर थाना इलाके के ग्राम मुबारिकपुर के मंदिर से 8 साल की बालिका का अपहरण कर लिया गया था। गांव के ही सुनील कुमार उर्फ तोता पर अपहरण का आरोप लगाया था। 27 वर्षीय सुनील 8 साल की बच्ची को मंदिर से अगवा करके गन्ने के खेत में लेकर गया था, जहां उसने पहले उसके साथ मुंह काला किया और फिर पोल खुलने के डर से बच्ची की गला घांटकर बड़ी ही निर्ममता से हत्या कर दी थी। इतना ही नहीं आरोपी ने बच्ची की लाश को गन्ने के खेत में ही छिपा दिया था।

इन धाराओं में दर्ज हुआ था मामला
इस मामले में मंसूरपुर थाने में पीड़ित पक्ष की तरफ से सुनील के खिलाफ आईपीसी की धारा 376, 302, 201 और 5/6 पोक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज कर कराया गया था। जिसके बाद पुलिस ने भी अपनी जांच में सुनील उर्फ तोता को दोषी पाते हुए चार्जशीट दाखिल की थी।