मुजफ्फरनगर में पूर्व ग्राम प्रधान की हत्या से हड़कंप, प्रधानी की रंजिश में हुआ कत्ल!

सड़क निर्माण को लेकर शुरू हुआ था विवाद, बाद में पिस्टल छीन लेने से बढ़ गया मामला
 
gram pradhan
मुजफ्फरनगर। क्राइम कैपिटल में अपराध कम होने का नाम नहीं ले रहा है। ये हम नहीं कह रहे हैं, बल्कि मुजफ्फरनगर जिले में लगातार हो रहे अपराध खुद-बा-खुद चीख-चीखकर ये बयां करने के लिए काफी है। ताजा मामला चरथावल इलाके का सामने आया है, जहां सड़क निर्माण को लेकर हुए विवाद में एक 65 साल के बुजुर्ग पूर्व प्रधान की गला दबाकर हत्या कर दी गई। जिसके बाद से गांव में गम-ओ-रंज़ का माहौल है। पुलिस मामले की पड़ताल कर कार्रवाई करने में जुटी हुई है। 
पावटी गांव का है मामला
दरअसल ये पूरा मामला चरथावल थाना क्षेत्र के गांव पावटी खुर्द का है, जहां सड़क निर्माण को लेकर हुए विवाद में 65 वर्षीय पूर्व प्रधान शराफत की गला दबाकर हत्या कर दी गई। देर रात हुई हत्याकांड की इस वारदात से गांव में सन्नाटा पसरा है। 
मृतक शराफत, पूर्व प्रधान (फाइल फोटो)
मृतक शराफत, पूर्व प्रधान (फाइल फोटो)
लाइसेंसी रिवाल्वर छीनने को लेकर बढ़ी बात
बताया जाता है कि भले ही सड़क निर्माण को लेकर ये विवाद पैदा हुआ हो, लेकिन इसकी जड़ आरोपित पक्ष से उसकी लाईसेंसी रिवाल्वर छीनने पर बढ़ी बात है। जिसके बाद दोनों पक्षों में मारपीट हो गई। इस बीच पूर्व प्रधान शराफत की गला दबाकर हत्या कर दी गई। हालांकि उन्हें आनन-फानन में अस्प्ताल ले जाया गया, जहां उनकी उपचार के दौरान मौत हो गई।
murder
वारदात के बाद गमगीन माहौल में बैठे ग्रामीण
ऐसी घटित हुई पूरी घटना
छरअसल, पिछली योजना में पावटी खुर्द की प्रधान रहीं हुस्नआरा और उसके पुत्र दानिश ने इस बार सुरक्षित सीट पर गांव के ही अजित सिंह को समर्थन देकर जीत सुनिश्चित कराई थी। प्रधान अजित सिंह गांव में सड़क निर्माण करा रहे थे। शुक्रवार देर रात सड़क निर्माण को लेकर पूर्व प्रधान शराफत और पूर्व प्रधान हुस्नआरा के पुत्र दानिश के बीच कहासुनी हो गई। चश्मदीदों के मुताबिक पूर्व प्रधान शराफत ने सड़क ऊंची कराए जाने पर नाराजगी जाहिर की। जिस पर उनकी बहस दानिश से हो गई। इस बीच दानिश ने अपना लाईसेंसी रिवाल्वर निकाल लिया। जिससे पूर्व प्रधान शराफत ने छीन लिया और पुलिस को देने को कहा। इस बात को लेकर दोनों पक्षों में मारपीट हो गई। गला दबाए जाने से पूर्व प्रधान की हालत बिगड़ गई और उन्हें जिला अस्पताल ले जाया गया। जहां उपचार के दौरान देर रात उनकी मौत हो गई।
murder
रार की जड़ः जिस रास्ते के निर्माण को लेकर हुआ विवाद
काफी दिनों से चल रही थी रंजिश
बताया जाता है कि मृतक पूर्व प्रधान शराफत तथा पूर्व प्रधान हुस्नआरा के बीच काफी दिनों से रंजिश चल रही थी। ग्राम प्रधान रहते हुस्नआरा पर निर्माण कार्यों में अनियमितता का आरोप लगा था। जिसके बाद पंचायतराज विभाग से उनके विरुद्ध 7 लाख रुपये की रिकवरी जारी हो गई थी। लेकिन पूर्व प्रधान के पुत्र दानिश ने रिकवरी को दबवा दिया था। सूत्रों की माने तो कुछ दिन पूर्व मृतक पूर्व प्रधान शराफत ने रिकवरी दबने की शिकायत सीडीओ से की थी। जिस पर सीडीओ ने संबंधित पटल कर्मी को लताड़ते हुए रिकवरी कराने के सख्त निर्देश दिए थे। इस शिकायत के बाद पूर्व प्रधान शराफत और हुस्नआरा एवं उनके पुत्र दानिश के बीच गहरी रंजिश पैदा हो गई थी।
पुलिस ने शुरू की कार्रवाई
रंजिश के चलते हुए पूर्व प्रधान हत्याकांड के मामले में पुलिस ने कार्रवाई शुरू कर दी है। इस मामले में पुलिस ने पूर्व प्रधान हुस्नआरा के पुत्र दानिश और उसके अन्य चार साथियों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। पुलिस के अनुसार आरोपितों की तलाश जारी है। मृतक पूर्व प्रधान शराफत के शव का पोस्टमार्टम कराया जा रहा है।